सावधान : Work from home के चलते बढ़ रहें Cyber crime की संभावनाएं | Zoom App |

भारत में राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल होने वाले इस ऐप का हुआ पर्दाफाश | सावधान : Work from home के चलते बढ़ रहें Cyber crime की संभावनाएं |

सावधान : Work from home के चलते बढ़ रहें Cyber crime की संभावनाएं | Zoom App |

कोरोना वायरस के मद्देनजर हुए लॉकडाउन ने देश में #work from home यानी घर से ही काम करने के चलन को बढ़ावा दिया है।Corona संक्रमण से बचाव के मद्देनजर भारत में केंद्र व राज्य सरकार,कई मल्टीनेशनल कंपनियों ओर राजनीतिक पार्टियों से जुड़े लोग घर से ही काम करना शुरू कर चुके हैं। जिसके लिए इंटरनेट पर विभिन्न ऐप को एक दूसरे से संपर्क साधने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।इस बीच #ZOOM नाम के एक फ्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप ने काफी धूम मचा रखी है जिसके द्वारा लगभग 100 से अधिक लोग एक साथ एक दूसरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात कर सकते हैं।लेकिन इस बीच ज़ूम एप के बारे में बहुत ही चिंताजनक बात सामने आई है।ज़ूम ऐप के यूजर्स के मुताबिक इस ऐप के जरिए वीडियो लीक और डाटा चोरी की खबरें सामने आ रही है ।बता दे के इस ऐप के जरिए वीडियो कॉलिंग और मीटिंग्स कि कई वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो चुकी है जिसके लिए ऐप के सीईओ ने सार्वजनिक तौर पर माफी मांगते हुए 3 महीने में समस्या का समाधान करने के वादे भी किये।

काफी चलन में है यह एप:-

लॉक डाउन के चलते वर्क फ्रॉम होम के बढ़ते चलन से ज़ूम ऐप के यूजर्स में भारी इजाफा हुआ दिसंबर से मार्च के 3 महीने के अंतराल में ज़ूम एप के  20 करोड़ यूज़र्स का इजाफा हुआ। साथ ही इन तीन महीनों में ज़ूम एप फाउंडर एरिक युवान की नेटवर्क में 112% की बढ़ोतरी हुई और अब उनकी नेटवर्क सर 7.5 बिलीयन डॉलर हो गई है।

कहां-कहां होता था इस्तेमाल

जूम ऐप का इस्तेमाल कई प्रमुख स्तर पर MNC कंपनी और विभिन्न राजनीतिक पार्टी के नेता करते हैं हाल ही में भारत में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 1 अप्रैल को हुए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी, नेवी,एयरफोर्स के चीफ से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए इसी ऐप का इस्तेमाल किया था।ऐसे में अब उस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुए मीटिंग की गोपनीयता खतरे में होती दिखाई दे रही है।

इसके साथ ही देश के अन्य अधिकारी जैसे वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल भी इस एप का इस्तेमाल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए कर चुके हैं ना सिर्फ मंत्री ही नहीं बल्कि अन्य जो भी भारतीय यूजर इस ऐप का इस्तेमाल करते हैं उनकी भी डेटा  पर खतरा मंडराता नजर आ रहा है।

हाल ही में ब्रिटेन में ज़ूम ऐप के माध्यम से एक कैबिनेट मीटिंग हुई थी जिसकी वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो चुकी है।अगर भारतीय नेताओं की बात करें तो यह भी इस एप का भरपूर इस्तेमाल करते हैं बता दे कि बीजेपी और कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता भी ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं। विगत दिनों कांग्रेश  अध्यक्ष सोनिया गांधी अधिकतर इसके जरिए कांग्रेस की वर्किंग कमेटी संबोधित करती नजर आई इसके अलावा कैप्टन अमरिंदर सिंह,भूपेश बघेल,आनंद शर्मा, गुलाम नबी आजाद भी इस ऐप के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस करते आ रहे हैं।

बढ़ते खतरे को देखते हुए साइबर सिक्योरिटी की भारत की नोडल एजेंसी CERTN ने Zoom यूज़र्स को इसके इस्तेमाल से सतर्क किया है।साथ ही CERTN ने बताया कि इस ऐप के जरिए cyber-attack भी हो सकते हैं। बता दे कि इस ऐप पर वीडियो लिंक के लिए इंक्रिप्शन और डिक्रिप्शन key डिस्ट्रीब्यूटर करने के लिए चीन के सरवर का इस्तेमाल किया जाता है।जिसपर भारत के प्रमुख साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट पवन दुग्गल ने सरकार,नेताओं और कॉरपोरेट सेक्टर से जुड़े लोगों को इस ऐप का इस्तेमाल करने से सख्त मना किया है।

इन देशों में हुआ प्रतिबंध:-

अमेरिका ने इस ऐप पर मुकदमा दायर करते हुए इसके इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है। कहा गया है कि इस ऐप का डेटा फेसबुक के साथ शेयर हो रहा है साथ ही एप यूज़र #web cam भी हैक हो जाते हैं।

इस तर्ज पर Zoom app के इस्तेमाल पर अमेरिका,जर्मनी, ब्रिटेन,सिंगापुर जैसे देशों ने प्रतिबंध लगा दिया है।बता दे कि गूगल और एलन मस्क की स्पेस एजेंसी ने भी इस ऐप को बैन किया हुआ है।