West Bengal Election : CBI के नोटिस से पश्चिम बंगाल के राजनीती में खलबली

चुनाव के दिन जैसे ही नजदीक आते जा रहे हैं, वैसे ही चुनावी सरगर्मियां भी लगातार बढ़ते जा रही हैं। इससे पहले ममता बनर्जी पर आरोप लगा था कि, उन्होंने जानबूझकर बीजेपी की एक महिला नेता को गांजे के साथ पकड़वाया और बीजेपी की छवि खराब करने के लिए पश्चिम बंगाल में यह किया गया।

West Bengal Election : CBI के नोटिस से पश्चिम बंगाल के राजनीती में खलबली

चुनाव के दिन जैसे ही नजदीक आते जा रहे हैं, वैसे ही चुनावी सरगर्मियां भी लगातार बढ़ते जा रही हैं।  इससे पहले ममता बनर्जी पर आरोप लगा था कि, उन्होंने जानबूझकर बीजेपी की एक महिला नेता को गांजे के साथ पकड़वाया और बीजेपी की छवि खराब करने के लिए पश्चिम बंगाल में यह किया गया। 

आरोप लग रहा है कि तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रूबीरा बनर्जी और साली मेनका गंभीर को केंद्र जांच ब्यूरो सीबीआई ने सोमवार को कोयला  घोटाले के मामले में नोटिस भेजा है ,और उनसे पूछताछ के लिए बुलाया है। 

तृणमूल कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी जानबूझकर सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स का उपयोग कर रही है ,और हमारे नेताओं को डरा धमका कर हमारी जिससे पार्टी की छवि को खराब किया जा सके। 

नोटिस के बाद अभिषेक बनर्जी ने इसकी जानकारी ट्वीट करते हुए दिया। अभिषेक बनर्जी ने ट्वीट किया और कहा कि वह और उनका परिवार कायर नहीं है।  आज दोपहर 2:00 बजे सीबीआई ने मेरी पत्नी के नाम पर एक नोटिस दिया है।  हमें कानून पर पूरा भरोसा है, हालांकि अगर उन्हें लगता है कि वह हमें डराने धमकाने के लिए इस काम का उपयोग कर सकते हैं , तो वह गलत है हम वह नहीं  जिन्हें कभी भी निकाला जाएगा।

इसके बात पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी ट्वीट करते हुए बीजेपी पर आरोप लगाया और नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि सत्ताधारी पार्टी एजेंसी का इस्तेमाल कर रही है और सीबीआई सहित कई बड़ी एजेंसी या सत्ताधारी पार्टी के इशारों पर काम करती है। नोटिस के बाद संबोधित करते हुए ममता ने कहा कि हमें जेल से डराने की कोशिश मत करो हमने बंदूकों के खिलाफ लड़ाई लड़ी है और चूहों से लड़ने से नहीं डरते हैं हम। 

तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी हर समय हर चुनाव में केंद्र की नीतियों का इस्तेमाल करती है , और विपक्षी पार्टियों को दबाती है। ये बात अलग है कि 2014 के बाद से लगातार जिस राज्य में चुनाव होते हैं वहां पर सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स के छापे पड़ने शुरू हो जाते हैं।  उसे पहले ही खबरें आमतौर पर बहुत कम सुनाई देती है पर जैसे ही किसी राज्य में चुनाव होते हैं वहां पर इनकम टैक्स , सीबीआई और ईडी के रेड के मामले बढ़ जाते हैं। 

अभी बात यह है की क्या तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच में चल रही सरगर्मी चुनावी नतीजों पर क्या प्रभाव डालता है। जहां पर राज्य की सरकार अपने पुलिस के बल पर बीजेपी की चुनावी प्रक्रिया में दखल देती है, तो वहीं बीजेपी इनकम टैक्स और सीबीआई को लेकर बंगाल में उतर जाती है।  अलग-अलग पार्टियों के बयान से पता चलता है ये बात। अब देखने की बात है की क्या वाकई ऐसा कुछ हुआ था या फिर जानबूझकर विपक्षी पार्टियों को दबाने के लिए किया जा रहा है।