वसीम रिजवी उर्फ जितेन्द्र त्यागी की पत्नी के साथ लखनऊ में मारपीट, घर पर लगाया ताला

लखनऊ। शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और मुस्लिम से हिन्दू बने वसीम रिजवी उर्फ जितेन्द्र नारायण त्यागी की दूसरी पत्नी ने आरोप लगाया कि उनके घर में घुसकर कुछ लोगों ने हंगामा किया और उनके साथ मारपीट की। फिर यतीमखाने की ओर से आवंटित उनके मकान में रिश्तेदारों ने ताला लगा दिया।

वसीम रिजवी उर्फ जितेन्द्र त्यागी की पत्नी के साथ लखनऊ में मारपीट, घर पर लगाया ताला

 

लखनऊ। शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और मुस्लिम से हिन्दू बने वसीम रिजवी उर्फ जितेन्द्र नारायण त्यागी की दूसरी पत्नी ने आरोप लगाया कि उनके घर में घुसकर कुछ लोगों ने हंगामा किया और उनके साथ मारपीट की। फिर यतीमखाने की ओर से आवंटित उनके मकान में रिश्तेदारों ने ताला लगा दिया। आरोप है कि यह सब कुछ सआदतगंज कोतवाली के एक दरोगा की मिलीभगत से हुआ है। वहीं, पुलिस का कहना है कि आरोप लगाने वाली महिला का आंवटन खत्म हो चुका है। दूसरा पक्ष कब्जा लेने पहुंचा था, तभी हंगामा हुआ। 

वसीम रिजवी इस समय हरिद्वार जेल में बंद है। उनकी दूसरी पत्नी फरहा फातिमा के मुताबिक शुक्रवार शाम करीब साढ़े पांच बजे कुछ लोग आ गये। इस समय उनके घर में ममेरी बहन निदा व अन्य लोग कुछ काम करवा रही थी। इसी दौरान इन लोगों ने घर में मौजूद बढ़ई से मारपीट शुरू कर दी। निदा से सूचना मिलते ही वह वहां के चल दीं। रास्ते से ही उन्होंने सआदतगंज कोतवाली में सूचना दी। उनके पहुंचने पर आरोपितों ने हाथापाई की और अपशब्द कहे। इस दौरान वहां आए सआदतगंज कोतवाली के सब इंस्पेक्टर मूक दर्शक बने खड़े रहे। यही नहीं कुछ देर बाद रिश्तेदारों के कहने पर एसआई ने जबरदस्ती मुझसे घर की चाभी ली और हमें निकाल कर ताला लगा दिया।

पुराना विवाद है कब्जेदारी का
सआदतगंज इंस्पेक्टर बृजेश कुमार का कहना है कि वसीम रिजवी के चेयरमैन रहने के दौरान यतीमखाने का एक मकान उनके रिश्तेदार के नाम से आवंटित हुआ था। वक्फ ने अब यह आवंटन रद्द कर मकान किसी और को अलॉट कर दिया है। शुक्रवार को नया आवंटी ही अपना कब्जा लेने पहुंचा था। वसीम की पत्नी उसका विरोध कर रही थी। इस पर ही दोनों पक्षों में कहासुनी हुई थी।