वाराणसी में उजाड़े गए पटरी पीड़ित व्यावसायिओ ने पुलिस और गाँव की दबंग महिला से तंग आकर सामूहिक आत्महत्या के लिए पत्रक दिया

वाराणसी। मंगलवार को बेनीपुर के उजाड़े गए दर्जनों पीड़ित ठेला पटरी व्यावसायी क्षेत्र के सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ उपजिलाधिकारी कार्यालय राजातालाब पहुँचकर राष्ट्रपति के नाम अपना पत्रक एसडीएम (प्रशिक्षु) मीनाक्षी पांडेय को सौंपा. पीड़ितों का कहना है कि वो पुलिस और अपने गाँव की रसूखदार दबंग महिला से परेशान हो चुके है जिस वजह से वो ऐसा कदम उठाने को मजबूर है |

वाराणसी में उजाड़े गए पटरी पीड़ित व्यावसायिओ ने पुलिस और गाँव की दबंग महिला से तंग आकर सामूहिक आत्महत्या के लिए पत्रक दिया

वाराणसी। राजातालाब|  मंगलवार को बेनीपुर के उजाड़े गए दर्जनों पीड़ित ठेला पटरी व्यावसायी क्षेत्र के सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ उपजिलाधिकारी कार्यालय राजातालाब पहुँचकर राष्ट्रपति के नाम अपना पत्रक एसडीएम (प्रशिक्षु) मीनाक्षी पांडेय को सौंपा. पीड़ितों का कहना है कि वो पुलिस और अपने गाँव की रसूखदार दबंग महिला से परेशान हो चुके है जिस वजह से वो ऐसा कदम उठाने को मजबूर है | मामला मिर्जामुराद थाना क्षेत्र के बेनीपुर गाँव का है. जहां पीड़ित व्यवसायी रहते है और गाँव के पास ही ज्ञानपुर प्रखंड नहर के किनारे ठेला लगाकर जीविकार्जन करते हैं।

 

पीड़ितों ने राष्ट्रपति के नाम का पत्रक लिखा. अपनी अपील में लिखा कि, ‘ हम विगत कई वर्षों से उक्त नहर के किनारे ठेला लगाकर जीविकोपार्जन करते हैं. मेरे गाँव की रसूखदार दबंग महिला हमारे साथ आएदिन गाली-गलौज करती रहती हैं और ठेला हटाने को महिला के झूठी शिकायत पर हमारे ठेले को स्थानीय प्रशासन हटा देता है काफी दिनों तक उक्त महिला के प्रताड़ना और अत्याचार सहते रहे. आखिर तंग आकर अपनी दुकानें अलग हट कर लगा रहे हैं. पीड़ितों ने आगे लिखा कि पुलिस वाले महिला के शह पर यहां भी उसे परेशान कर रहे हैं. पीड़ितों ने कहा कि हमें महिला द्वारा झूठे मामले में फँसाकर जेल भिजवाने की धमकी भी देती हैं.

 

 

 

ऐसी स्थिति में हमारे पास मरने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा है.” जिसके बाद हम लोगो ने यह फैसला किया कि एक साथ अपनी जान देना चाहते है. जिसके लिए पीड़ितों ने राष्ट्रपति से सामूहिक आत्मदाह करने की पत्रक दिया है. इस अवसर पर पीड़ित सुरज गुप्ता, रंजीत, सुन्दरम बिंद, प्रदीप कुमार, राजेंद्र वर्मा, लक्ष्मी शंकर, कमलेश, मनोज गुप्ता, रत्तीलाल, राजू, मनीष कुमार आदि व्यवसायियों सहित सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता, योगीराज सिंह पटेल, सुरेश राठौर, गणेश शर्मा, मुस्तफ़ा आदि लोग उपस्थित थे।