वाराणसी में बदमाशों से पुलिस की मुठभेड़, मारा गया कुख्यात राजेश दुबे पुलिस मुठभेड़ में वाराणसी

वाराणसी में मंगलवार की शाम एसटीएफ से मुठभेड़ में एक लाख का इनामी शातिर बदमाश राजेश दुबे उर्फ टुन्ना मारा गया। सारनाथ के सिंहपुर रोड पर सटीक मुखबिरी के बाद एसटीएफ ने बदमाशों की घेरेबंदी की थी। इस दौरान दोनों तरफ से हुई फायरिंग में एसटीएफ का जवान भी गोली लगने से घायल हो गया। गाजीपुर के नंदगंज के अलीनगर निवासी राजेश अपने एक साथी के साथ आया था। मुठभेड़ के दौरान उसका साथी बाइक लेकर फरार हो गया। घायल जवान को मलदहिया स्थित सिंह मेडिकल में भर्ती कराया गया है।

वाराणसी में मंगलवार की शाम एसटीएफ से मुठभेड़ में एक लाख का इनामी शातिर बदमाश राजेश दुबे उर्फ टुन्ना मारा गया। सारनाथ के सिंहपुर रोड पर सटीक मुखबिरी के बाद एसटीएफ ने बदमाशों की घेरेबंदी की थी। इस दौरान दोनों तरफ से हुई फायरिंग में एसटीएफ का जवान भी गोली लगने से घायल हो गया। गाजीपुर के नंदगंज के अलीनगर निवासी राजेश अपने एक साथी के साथ आया था। मुठभेड़ के दौरान उसका साथी बाइक लेकर फरार हो गया। घायल जवान को मलदहिया स्थित सिंह मेडिकल में भर्ती कराया गया है। आईजी रेंज विजय सिंह मीणा और एसएससी प्रभाकर चौधरी भी पहले मौके पर फिर अस्पताल पहुंचे। जवान विनोद यादव की पसली में बाएं तरफ गोली लगी है।

मंगलवार की शाम एसटीएफ को राजेश दुबे के आने की सूचना मिली थी। इसी के बाद रिंगरोड के निकट सिंहपुर रोड पर घेराबंदी की गई थी। खुद को घिरता देख टुन्ना ने फायरिंग शुरू की। पहली गोली जवान विनोद यादव को लगी। इसके बाद बाइक मोड़कर बदमाश भागने लगा। हड़बड़ी में बाइक गिर गई। इससे टुन्ना गिर गया और बाइक लेकर दूसरा बदमाश फरार हो गया। गिरने के बाद टुन्ना ने कारबाइन और पिस्टल से एसटीएफ पर फायरिंग शुरू कर दी। एक गोली इंस्पेक्टर अमित श्रीवास्तव की बुलेटप्रूफ जैकेट में भी लगी। जवाबी कारवाई में टुन्ना मारा गया। उसे तीन गोली लगी है। टुन्ना ने करीब 15 गोलियां चलाईं। मौके से 50 कारतूस मिले हैं।