वाराणसी के 1300 स्कूल हुए क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील - Varanasi News Uttarpradesh

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जिला प्रशासन ने 1300 स्कूल परिषद को क्वॉरेंटाइन सेंटर में तब्दील करने का फैसला लिया है।जिसका काम गत सोमवार से शुरू हो गया है।(जाने पूरी रिपोर्ट)

वाराणसी के 1300 स्कूल हुए क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील - Varanasi News Uttarpradesh
वाराणसी के 1300 स्कूल हुए क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील - Varanasi News Uttarpradesh

*वाराणसी के 1300 स्कूल हुए क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील*

Corona संक्रमण के फैलते जाल ने सभी को भयभीत कर दिया है।ऐसे में केंद्र व राज्य सरकारों ने Corona के खिलाफ ,आसानी से ना खत्म होने वाले इस जंग के लिए कमर कस ली है। इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में जिला प्रशासन ने 1300 स्कूल परिषद को क्वॉरेंटाइन सेंटर में तब्दील करने का फैसला लिया है।जिसका काम गत सोमवार से शुरू हो गया है। इन स्कूलों में अन्य राज्य से पलायन कर आए प्रवासियों को 14 दिनों तक क्वॉरेंटाइन में रखा जाएगा ताकि अगर इनमें से संक्रमित व्यक्ति की पहचान हो सके और संक्रमण जिले में आगे ना फैले।

जनपद के सभी शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों का बेहतर उपयोग करते हुए जिला प्रशासन ने इन्हें क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाने का अहम फैसला लिया है जो जानकारी के अनुसार अगले 24 घंटों में चालू कर दी जाएगी।इस क्रम में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राकेश सिंह ने सभी स्‍कूलों के प्रधानाचार्यो के साथ बैठक कर इस फैसले पर काम शुरू कर दिया है।जिसके बाद स्‍कूलों को खोलकर साफ-सफाई शुरू कराई गई।स्‍कूलों में मीड-डे मील बनाने वाले रसोइयों को बुलाकर खानपान व्‍यवस्‍था की तैयारी करने को भी कहा गया है।

सीडीओ मधुसुदन हुलगी ने बताया कि क्‍वॉरंटाइन सेंटर बनाने के लिए सभी स्‍कूलों को विशेष तौर पर जिले की सीमाओं पर स्थित विद्यालयों में ग्राम प्रधान के जरिए साफ-सफाई कराने के बाद बेड आदि की व्‍यवस्‍था की जा रही है। बाहर से आने वाले लोगों को यहां 14 दिन तक रखने के दौरान सोशल डिस्‍टेसिंग सुनिश्चित की जाएगी।फिर जांच के बाद ही घर जाने दिया जाएगा।

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राकेश सिंह ने बताया कि क्‍वॉरंटाइन सेंटरों की निगरानी के लिए शिक्षकों को परे रखते हुए संबंधित स्‍कूलों के प्रधानाचार्यों की ड्यूटी लगाई जाएगी।सेंटर में रखे जाने वाले लोगों को मीड-डे मील के रसोइये द्वारा तैयार ताजा भोजन उपलब्ध कराई जाएगी।