अस्पतालों में हो रहे बेड को लेकर घोटाले पर प्रशासन हुवा सख्त अस्पताओं की होगी जांच

कोरोना संक्रमण ने पुरे बनारस को अपने गिरफ्त में ले लिया है | हर रोज कई लोगो की इस संक्रमण से जान जा रही है और बात कर ले अस्पतालों की तो यहाँ पर ज्यादातर अस्पताओं में अब कोवीड मरीजों के लिए बेड भी अब ना के बराबर हो गई बताया जा रहा है की प्राइवेट हॉस्पिटलों में बेड को लेकर काफी मारा मारी है और ऐसी भी सुचना आ रही है की बेड को ले कर काफी घोटाला चल रहा है।

अस्पतालों में हो रहे बेड को लेकर घोटाले पर प्रशासन हुवा सख्त अस्पताओं की होगी जांच

कोरोना संक्रमण ने पुरे बनारस को अपने गिरफ्त में ले लिया है | हर रोज कई लोगो की इस संक्रमण से जान जा रही है और बात कर ले अस्पतालों की तो यहाँ पर ज्यादातर अस्पताओं में अब कोवीड मरीजों के लिए बेड भी अब ना के बराबर हो गई बताया जा रहा है की प्राइवेट हॉस्पिटलों में बेड को लेकर काफी मारा मारी है और ऐसी भी सुचना आ रही है की बेड को ले कर काफी घोटाला चल रहा है।

 



प्रशासन को मिली सूचना के अनुसार कुछ अस्पताल संचालक तय कोटे से अधिक बेड पर मरीज भर्ती कर रहे हैं। इससे ऑक्सीजन की खपत तय कोटे से अधिक बढ़ जा रही है। इसे देखते हुए प्रशासन ने कुछ निजी अस्पतालों की जांच कराने का निर्णय लिया है। सभी अस्पतालों की स्थिति पर नजर रखने के लिए नोडल अफसर पहले ही तैनात किये जा चुके हैं उनके नंबर भी आम किए गये हैं ताकि लोग अपनी शिकायत उनके जरिए प्रशासन तक पहुंचा सकें।

 



कोविड कंट्रोल कमांड सेंटर व काशी कोविड रिस्पांस सेंटर में भी इस तरह की शिकायतें दस से अधिक नंबरों पर सुनी जा रही हैं। बतादे शहर-गांव के कुछ अस्पतालों को प्रशासन ने कोविड-19 संक्रमितों को भर्ती करने की अनुमति दी है। इसके लिए बेड संख्या तय की की गयी है। इसके अनुसार ही प्रशासन आक्सीजन व रेमडेसिविर इंजेक्शन आदि भी उपलब्ध करा रहा है।