Varanasi News - कोविड को रोकने के लिए वैक्सीनेशन सबसे बड़ा हथियार - कमिश्नर दीपक अग्रवाल

वाराणसी कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि कोविड को रोकने के लिए वैक्सीनेशन सबसे बड़ा हथियार है। जब तक हम शत-प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन नहीं हो जाता, तब तक हम कोविड पर नियंत्रण नहीं पा सकेंगे। उन्होंने बताया कि शासन स्तर से 15 से 18 वर्ष के बच्चों का वैक्सीनेशन विद्यालयों में जाकर किए जाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिये 15 एवं 16 जनवरी को 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन हेतु महाअभियान चलाया जाएगा।

Varanasi News - कोविड को रोकने के लिए वैक्सीनेशन सबसे बड़ा हथियार - कमिश्नर दीपक अग्रवाल

वाराणसी  कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि कोविड को रोकने के लिए वैक्सीनेशन सबसे बड़ा हथियार है। जब तक हम शत-प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन नहीं हो जाता, तब तक हम कोविड पर नियंत्रण नहीं पा सकेंगे। उन्होंने बताया कि शासन स्तर से 15 से 18 वर्ष के बच्चों का वैक्सीनेशन विद्यालयों में जाकर किए जाने का निर्णय लिया गया है। इसके लिये 15 एवं 16 जनवरी को 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन हेतु महाअभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि 03 लाख बच्चों का वैक्सीनेशन कराया जाना है। उन्होंने बताया कि स्कूलों के अलावा आईटीआई, कोचिंग संस्थान, इंजीनियरिंग एवं हायर एजुकेशन सहित ग्रामीण क्षेत्रों के 15 से 18 वर्ष आयु के बच्चों का वैक्सीनेशन कराया जाएगा।

 

 

कमिश्नर दीपक अग्रवाल मंगलवार को मंडलीय सभागार में कोविड के संबंध में अधिकारियों के साथ अति आवश्यक बैठक कर रहे थे। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को ब्लॉक स्तरीय कर्मचारियों के सहयोग से सूची तैयार कर वैक्सीनेशन कराया जाए। स्पोर्ट्स क्लब के ऐसे बच्चे जो स्कूलों में इनरोलमेंट नहीं है, उनका भी वैक्सीनेशन कराया जाए। बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए स्कूलों में कैंप लगाए जाएंगे। इसके साथ ही स्थित डॉ संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम, एलटी कॉलेज अर्दली बाजार में विशेष कैंप लगाए जाएंगे।

 

बैठक में बताया गया कि जनपद में 98 से अधिक आईटीआई विद्यालयों में 14 हजार के लगभग बच्चे हैं। कमिश्नर ने निर्देशित करते हुए कहा कि इन विद्यालयों में उन बच्चों की सूची तैयार किया जाए, जिन बच्चों का अब तक वैक्सीनेशन नहीं हो सका है और ऐसे बच्चों का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन कराना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि किस आईटीआई विद्यालयों में कितने बच्चे ऐसे हैं जिनका वैक्सीनेशन नहीं हुआ है और वे किस ब्लॉक पर वैक्सीनेशन कराएंगे, इसकी सूची बुधवार को शाम तक प्रत्येक दशा में उपलब्ध कराएं।

 

 

उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जिस भी संस्थान में 100 से अधिक बच्चे हो, वहाँ मेडिकल टीम भेजकर वैक्सीनेशन कराया जाए। पॉलिटेक्निक कॉलेज के बच्चों का वैक्सीनेशन कराए जाने हेतु नोडल अधिकारी नामित कर इसे कराए जाने का निर्देश दिया गया। क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी ने बताया कि 3517 बच्चों की सूची अब तक तैयार कर ली गई है, जिसमे से 1042 बच्चों का वैक्सीनेशन कराया जा चुका है, अन्य बच्चों का भी कराया जा रहा है।

रजिस्ट्रार को निर्देशित

बीएचयू एवं महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार को निर्देशित करते हुए कमिश्नर ने कहा कि फर्स्ट ईयर के बच्चे लगभग 18 वर्ष के अंदर के होते हैं, ऐसे बच्चों को फोकस कर उनका वैक्सीनेशन अवश्य कराया जाए। युवा कल्याण अधिकारी को निर्देशित किया गया कि 15 से 18 वर्ष के बच्चों को नजदीकी विकास खंड में ले जाकर उनका वैक्सीनेशन कराना सुनिश्चित कराएं। निर्धारित आयु वर्ग के अन्य जगहों से बनारस आकर पठन-पाठन करने वाले बच्चों का भी कराए जाने पर विशेष जोर दिया। सारनाथ के तिब्बती कालेज के छात्रों को उनके विद्यालय के परिचय पत्र पर ही वैक्सीनेशन जाने का निर्देश दिया।

 

 

इस दौरान डीएम कौशल राज शर्मा ने दिए निर्देश

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि रविवार को शाम तक जनपद के समस्त 15 से 18 वर्ष आयु के बच्चों का वैक्सीनेशन कराना सुनिश्चित कराया जाए। उन्होंने जिला अल्प संख्यक कल्याण अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि मदरसों के निर्धारित आयु वर्ग के बच्चों का 2 दिन के अंदर वैक्सीनेशन करवाया जाना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने युवा कल्याण, नेहरू युवा केंद्र, रेड क्रॉस, चाइल्ड लाइन एवं नागरिक सुरक्षा संगठन के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि ऐसे बच्चे जो किसी स्कूल में इनरोलमेंट न हो या पढ़ने न जाते हो, ऐसे बच्चों को ढूंढ कर उनका वैक्सीनेशन करवाएं। उन्होंने शहर के संचालित एफएम चैनल के प्रतिनिधियों से 15 से 18 वर्ष आयु के बच्चों के वैक्सिनेशन हेतु जन जागरूकता के सूचना अभियान के रूप में प्रसारित करने पर जोर दिया