ट्रंप के दौरे के बीच दिल्ली आगजनी |

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध और समर्थन को लेकर हिंसा का असर मंगलवार को भी देखने को मिल रहा है।आज  भी जाफराबाद, मौजपुर, करावलनगर समेत उत्तर पूर्व के ज्यादातर इलाकों में तनाव बरकरार है। कुछ जगहों पर हिंसा की भी खबर है। हालांकि, प्रभावित इलाकों में पुलिस बल तैनात है, लेकिन लोग खौफजदा हैं।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध और समर्थन को लेकर हिंसा का असर मंगलवार को भी देखने को मिल रहा है।आज  भी जाफराबाद, मौजपुर, करावलनगर समेत उत्तर पूर्व के ज्यादातर इलाकों में तनाव बरकरार है। कुछ जगहों पर हिंसा की भी खबर है। हालांकि, प्रभावित इलाकों में पुलिस बल तैनात है, लेकिन लोग खौफजदा हैं। इससे पहले सोमवार को हिंसा ने और उग्र रूप ले लिया था।सुबह से जारी हिंसा के बीच मौजपुर चौक पर महिलाओं ने कई दुकानों में तोड़फोड़ की। इसी के साथ भीड़ ने मौजपुर ने ही एक घड़ी, एक एसी  और जूते की दुकान में आग लगा दी। वहीं, प्रदर्शनकारियों ने करावल नगर रोड पर आग लगा दी है और किसी को आगे जान नहीं दे रहे हैं। पुलिस ने जानकारी दी है कि अब तक एक पुलिसकर्मी समेत कुल 7 लोगों की मौत पिछले दो दिन की हिंसा की दौरान हुई है। ।
पूर्वी दिल्ली स्थित ब्रह्मपुरी रोड पर सारी दुकानें बंद हैं, साथ ही सार्वजनिक सेवा बिल्कुल बंद है। लोग समूह बनाकर सड़क पर खड़े हैं।
CAA-NRC के विरोध और समर्थन के दौरान भड़की हिंसा के मद्देनजर दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने अपने आवास पर आपात बैठक बुलाई है। इस बैठक में विधायकों के साथ अधिकारियों को भी हिंसा के मद्देनजर बातचीत के लिए बुलाया गया है।
हिंसा के मद्देनजर उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सभी स्कूल आज बंद हैं। साथ ही बोर्ड परीक्षाओं सहित अन्य वार्षिक परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है।
दिल्ली पुलिस के मुताबिक, उत्तर पूर्व जिले के कई इलाकों में तनाव बरकरार है। इस बाबत पुलिस की सीलमपुर में बैठक भी हुई है।
 पुलिसने बताया है की , सोमवार को सरेआम पिस्टल चला रहे शाहरुख नाम के शख्स को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।
दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) ने संभावित बवाल के मद्देनजर जाफराबाद, मौजपुर-बाबरपुर, जोहरी एन्कलेव और शिव विहार मेट्रो स्टेशन को मंगलवार को भी बंद रखा गया है। इन मेट्रो स्टेशन पर लोगों की आवाजाही के लिए गेट बंद हैं और यहां पर मेट्रो ट्रेन भी नहीं रुक रही है।  
पुलिस के मुताबिक, एक पुलिसकर्मी रतनलाल और चार नागरिकों की मौत हिंसक प्रदर्शनों के चलते हुई है। वहीं, 105 लोग इन हिंसक प्रदर्शनों में घायल हुए हैं।
यमुनापार (पूर्वी दिल्ली) के कई इलाकों में दिनभर पत्थरबाजी, आगजनी और गोलीबारी होती रही। इसमें एक पुलिसकर्मी सहित पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि 100 से ज्यादा लोग जख्मी हो गए। इनके अलावा शाहदरा के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) अमित शर्मा सहित 12 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।