इमरान खान का नया परियोजना टिड्डि पकड़ पायलट परियोजना | Pakistan's Locust pilot project

टिड्डियों तबाही का जरिया नहीं पैसे कमाने का जरिया है जी हां आपने बिलकुल सही सुना ये कहना है पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान का | Pakistan's Locust pilot project |

इमरान खान का नया परियोजना टिड्डि पकड़ पायलट परियोजना | Pakistan's Locust pilot project
Pakistan's Locust pilot project

Pakistan's Locust pilot project

बतादे इस वक्त टिड्डियों के हमले से न केवल पाकिस्तान बल्कि भारत के भी कई राज्य जूझ रहे हैं। जिस वजह से जहा एक तरफ कई राज्य  इस मुसीबत से छुटकारा पाने की कोशिस कर रहे है वही पकिस्तान सरकार ने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि वे टिड्डियों को पकड़कर उन्हें सौंपे जिसका इस्तेमाल मुर्गियों के दानों के रूप में किया जाएगा।

दरअसल  इमरान खान का कहना है कि वह टिड्डियों को पकड़ने के लिए एक पायलट परियोजना का देशभर में विस्तार करना चाहते हैं। इसमें किसानों को टिड्डियों के बदले पैसे दिए जाएंगे। उन्होंने दावा किया कि इस योजना से देश के कुछ सबसे गरीब हिस्सों में किसानों को बहुत अधिक आमदनी होगी। पकड़े गए टिड्डियों से पोल्टी फार्म के लिए प्रोटीन युक्त चारा बनाया जाएगा।

बतादे टिड्डियों की वजह से काफी नुकसान हुवा है एक किलोमीटर के टिड्डी दल में करीब 4 करोड़ टिड्डियां होती हैं। एक एडल्‍ट टिड्डी अपने वजन (2 ग्राम) के बराबर रोज खा सकती है।  वो एक दिन में उतना खा सकती हैं जिनता 35 हजार लोग एक दिन में खाएंगे। अब तक हजारो हेक्टेयर  खेतो के फसलों को टिड्डियों ने बर्बाद कर दिया है |

पाकिस्तान के सूचना मंत्री शिबली फराज ने कहा पायलट प्रोजक्ट के तौर पर यह पहले  पंजाब प्रांत के ओकरा में लागू किया गया। जहां किसानों को 20 रुपये प्रति किलो का भुगतान किया गया। इसके साथ आप को बतादे  संयुक्त राष्ट्र ने चेतावनी दी है कि टिड्डियों का नया दल ईरान और पश्चिम अफ्रीका में स्थित देशों पर हमला कर सकता है।