योगी सरकार का बड़ा ऐलान - अब यूपी में भी विधायकों की 30% तक कटेगी सैलरी साथ ही MLA फंड भी दो साल तक लिए होगा बंद

योगी सरकार का बड़ा ऐलान - अब यूपी में भी विधायकों की  30% तक कटेगी सैलरी साथ ही MLA फंड भी दो साल तक लिए होगा बंद

Fight Against Coronavirus-अब यूपी में भी विधायकों की 30%सैलरी कटेगी 


कल प्रधानमंत्री ने बीजेपी ने संस्थापना दिवस पर देश को सम्बोधित किया।कोरोना वायरस से लड़ने के लिए बीजेपी सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है कल कैबिनेट बैठक और केंद्रे सरकार के बीच हुए फैसले की जानकारी देते हुए प्रकाश जावड़ेकर ने बताया की सभी  कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों  समेत खुद प्रधानमंत्री की सैलरी में 30 फीसदी की कटौती की जाएगी। और यह कटौती एक साल तक रहेगी। इसको लेकर केन्द्र सरकार अध्यादेश जारी करेगी। 
उन्होंने बताया कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी। 1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30 फीसदी तक कम किया जाएगा। अब उत्तर प्रदेश सरकार ने भी एक बड़ा ऐलान किया है। योगी सरकार भी अब सभी विधायकों की 30 प्रतिशत सैलरी कम करने की तैयारी में है. इतना ही नहीं सभी विधायकों की निधि (MLA Fund) 2 साल के लिये सस्पेंड की जाएगी. दो साल तक विधायक निधि कोविड-19 (COVID-19) की महामारी के लिए उपयोग की जाएगी. योगी सरकार इसके लिए जल्द ही अध्यादेश लाएगी.
कल केंद्रे सरकार के लिए इस फैसले का सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वागत किया है. यूपी सरकार भी सभी विधायकों की सैलरी में कटौती और विधायक निधि को दो साल के लिए सस्पेंड करेगी. केंद्र के फैसले की कॉपी मिलने के बाद यूपी सरकार अध्यादेश के जरिए इसे लागू करेगी.

केंद्रे सरकार के इस फैसले पर विपक्षी दलों की प्रतिक्रिया भी आनी शुरू हो गई है. समाजवादी पार्टी ने इसका समर्थन किया है, लेकिन साथ ही कहा है कि सरकार को एक-एक पैसे का हिसाब भी देना होगा. समाजवादी पार्टी के अनुराग भदौरिया ने कहा कि जितनी सैलरी काटनी हो सरकार काट सकती है. संकट की इस घड़ी में सभी साथ हैं, लेकिन सरकार को जनता को हिसाब भी देना होगा. सरकार को ये भी बताना होगा कि पैसों का कहां और कैसे इस्तेमाल किया गया.