Varanasi News- शहर बनारस में 'काशी की प्रसिद्ध नाग नथैया लीला' आज

वाराणसी शहर अपने संस्कृति और त्योहारों को लेकर पूरी दुनिया में जाना जाता है माना जाए तो शहर बनारस में काफी त्यौहार मनाया जाता है वही आप को बतादे काशी के लक्खा मेलों में से एक तुलसी घाट की प्रसिद्ध नाग नथैया लीला का मंचन आज सायंकाल तुलसी घाट पर होगा। इसको लेकर तैयारियां आज प्रातः काल से ही शुरू हो गया।

Varanasi News- शहर बनारस में 'काशी की प्रसिद्ध नाग नथैया लीला' आज

वाराणसी शहर अपने संस्कृति और त्योहारों को लेकर पूरी दुनिया में जाना जाता है माना जाए तो शहर बनारस में काफी त्यौहार मनाया जाता है वही आप को बतादे काशी के लक्खा मेलों में से एक तुलसी घाट की प्रसिद्ध नाग नथैया लीला का मंचन आज सायंकाल तुलसी घाट पर होगा। इसको लेकर तैयारियां आज प्रातः काल से ही शुरू हो गया।

 

 

सूर्योदय से लेकर भगवान श्री कृष्ण के 4:40 तक गंगा के यमुना रूपी स्वरूप में कुदने  तक होने वाली इस लीला की तैयारी संकट मोचन मंदिर के महंत प्रोफ़ेसर विशंभर नाथ मिश्र जी के सानिध्य मे सुबह से ही शुरू होती है । संकट मोचन मंदिर से कदम के पेड़  की डाली को ले आना और तुलसी घाट पर उसे स्थापित कर लीला का संपूर्ण वातावरण बनाना बहुत ही कठिन कार्य है लेकिन गोस्वामी जी द्वारा स्थापित इस लीला का लीला ही निराली है। 

 

 

 

प्रोफेसर विशंभर नाथ मिश्र बताते हैं कि " हम लोग नहीं करते हैं यह गोस्वामी तुलसीदास और हनुमान जी की कृपा है जो आसान तरीके से संपन्न हो जाता है। हम लोग को भी समझ में नहीं आता है कि यह कैसे सब हो रहा है भगवान श्रीकृष्ण ही सब कराते हैं , वो तो खुद ही लीला के रचयिता है  उन्हीं के आशीर्वाद से सब कुछ संपूर्ण होता है"| आज सुबह से ही वाराणसी के तुलसी घाट पर साफसफाई व नाग नथैया की जोरो शोरो पर है इस नागनथैया को देखने के लिए बाहर से  भी लोग आते है |