सुसाइड नोट से हुवा चौकादेने वाला खुलासा | वाराणसी समाचार | ZNDM NEWS |

अधूरी कहानी पर खामोश लबों का पहरा है... चोट रूह की है इसलिए दर्द जरा गहरा है...।’ यह पंक्तियां पंखा कारोबारी चेतन तुलस्यान के कमरे से बरामद सुसाइड नोट की शुरुआत में उसकी पत्नी ऋतु ने लिखी थीं। चेतन के अनुसार, आंखों से कम दिखाई देने के कारण उसने सुसाइड नोट ऋतु से लिखवाया था।

अधूरी कहानी पर खामोश लबों का पहरा है... चोट रूह की है इसलिए दर्द जरा गहरा है...।’ यह पंक्तियां पंखा कारोबारी चेतन तुलस्यान के कमरे से बरामद सुसाइड नोट की शुरुआत में उसकी पत्नी ऋतु ने लिखी थीं। चेतन के अनुसार, आंखों से कम दिखाई देने के कारण उसने सुसाइड नोट ऋतु से लिखवाया था। फोरेंसिक टीम के अनुसार, सुसाइड नोट इत्मीनान से और अलग-अलग दिनों में पेन और स्केच से लिखा गया है।
सुसाइड नोट के अनुसार, पति और पत्नी ने जब जान देने की बात आपस में तय कर ली तो उन्होंने बच्चों से भी इस संबंध में बात की। हर्ष स्नातक की पढ़ाई कर रहा था और हिमांशी इंटरमीडिएट का प्राइवेट फार्म भरी थी। दोनों बच्चों ने चेतन से कहा था कि हमें नींद की गोली देकर पापा गला दबा देना। बच्चों ने जैसा कहा वैसा ही उनके साथ चेतन ने किया।सुसाइड नोट के अनुसार, रात दो बजे दोनों बच्चों को नींद की गोली देकर चेतन ने पत्नी की मौजूदगी में उनका गला दबाया।
सुसाइड नोट के अनुसार, जालीदार काले पंखे असेंबल करने का आर्डर मिलता था और काम होता था तो चेतन को प्रतिमाह पांच हजार रुपये मिलते थे। इसके अलावा बुलानाला में उसकी दुकान है, जिसका किराया प्रति माह 26 हजार रुपये आता है। इसमें से 13 हजार रवींद्र और 13 हजार चेतन लेता था। मोहल्ले के लोगों ने कहा कि ऐसा भी नहीं था कि परिवार गंभीर आर्थिक तंगी का शिकार था। अपना मकान है और 13 हजार रुपये महीने में मिलना तय ही था। इतने में आसानी से परिवार का पालन पोषण संभव था।इस लिए लोगो को समझ नहीं आ रहा की इस परिवार ने आत्महत्या क्यों की  
चेतन ने 4:35 बजे सौ नंबर पर कॉल कर कहा कि दोनों बच्चे खत्म हो गए हैं और अब मैं जान देने जा रहा हूं। इस सूचना पर पीआरवी और सिटी कंट्रोल रूम के पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया। जिस मोबाइल नंबर से फोन आया था, उसकी जीपीएस लोकेशन की मदद से पुलिस चेतन के घर तक पहुंची
आपको बता दें कि वाराणसी के मुकीमकंज क्षेत्र के नचनी कुआं मोहल्ले में शुक्रवार सुबह दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। पंखा कारोबारी चेतन तुलस्यान (45) ने बेटे हर्ष (19), बेटी हिमांशी (17) और पत्नी ऋतु (42) को नींद की गोली खिला कर तीनों का गला दबा दिया। पत्नी और बच्चों की हत्या के बाद चेतन ने सुबह 4:35 बजे डायल 112 पर फोन कर सूचना दी कि उसने सबको मार दिया है और अब वह भी जान देने जा रहा  इसके बाद अपने दोनों हाथों पर टेप बांध उसने खुद फंदे से लटक कर जान दे दी।
सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। पुलिस ने चारों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मौके से 8 पन्ने का सुसाइड नोट और एफिडेविट बरामद हुआ है। सुसाइड नोट के अनुसार आंखों की कम होती रोशनी, आर्थिक तंगी सहित अन्य कारणों से परिवार ने जान दी है। चेतन ने अपने घर और दुकान को गोरखपुर निवासी साले को देने की बात लिखी है। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि मौके से मिले सुसाइड नोट और दवाएं आदि देख कर यह प्रतीत होता है कि पूरी तैयारी के साथ परिवार ने आपसी सहमति से जान दी है।