अब तेल, साबुन जैसे दैनिक उपयोग आने वाले सामान भी होंगे महंगे

देश की गिरती अर्थव्यवस्था में खाने से लेकर रोजमार्रा के काम आने वाले सामानों के दाम लगातार बढ़ते जा रहे है | अब तेल, साबुन जैसे दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली हिंदुस्तान यूनिलीवर लि. त्वचा की साफ-सफाई (क्लीनजिंग) वाले प्रोड्क्ट के दाम 2.5 प्रतिशत बढ़ाने जा रही है| लागत में बढ़ोतरी को देखते हुए कंपनी ने यह कदम उठाया है|

अब तेल, साबुन जैसे दैनिक उपयोग आने वाले सामान भी होंगे महंगे

देश की गिरती अर्थव्यवस्था में खाने से लेकर रोजमार्रा के काम आने वाले सामानों  के दाम लगातार बढ़ते जा रहे है | अब  तेल, साबुन जैसे दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली हिंदुस्तान यूनिलीवर लि. त्वचा की साफ-सफाई (क्लीनजिंग) वाले प्रोड्क्ट के दाम 2.5 प्रतिशत बढ़ाने जा रही है| लागत में बढ़ोतरी को देखते हुए कंपनी ने यह कदम उठाया है|  एचयूएल के मुख्य वित्त अधिकारी श्रीनिवास पाठक ने कहा कि यह दूसरा मौका है जब कंपनी इन प्रोड्क्ट के दाम बढ़ा रही है. इससे पहले, दिसंबर 2020 में इन प्रोड्क्ट के दाम 2.5 प्रतिशत बढ़ाये गये थे| पाठक ने बुधवार को वित्तीय परिणाम के बाद कांफ्रेंस कॉल में कहा, 'त्वचा की साफ-सफाई से जुड़े उत्पादों के दाम दिसंबर तिमाही में 2.5 प्रतिशत बढ़ाये गये थे|  हम अब इसके दाम 2.5 प्रतिशत और बढ़ा रहे हैं| '

Lux और Lifebuoy भी है शामिल- एचयूएल त्वचा की साफ-सफाई वाले उत्पादों के मामले में अग्रणी कंपनी है|  इस श्रेणी के उत्पादों में Lux और Lifebuoy शामिल हैं. कंपनी ने लागत में बढ़ोतरी के कारण यह कदम उठाया है. यूनिलीवर के लंदन स्थित हैडक्वाटर में बतौर कार्यकारी उपाध्यक्ष रहे पाठक ने कहा कि लागत प्रभाव करीब 7 से 9 प्रतिशत है. हालांकि कंपनी ने कुल मिलाकर 5 प्रतिशत की ही वृद्धि की है| 

हिंदुस्तान यूनिलीवर (एचयूएल) का चालू वित्त वर्ष की दिसंबर, 2020 में समाप्त तीसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 18.8 प्रतिशत बढ़कर 1,938 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 1,631 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था. कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी बिक्री 20.26 प्रतिशत बढ़कर 11,969 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 9,953 करोड़ रुपये थी. तिमाही के दौरान कंपनी का कुल खर्च भी 21.65 प्रतिशत बढ़कर 9,548 करोड़ रुपये हो गया, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 7,849 करोड़ रुपये था|