सप्त दिवसीय ऑरोयूथ राष्ट्रीय कार्यशाला "एक नई सुबह की ओर"

राष्ट्रीय ऑनलाइन कार्यशाला " एक नयी सुबह की ओर" के सातवें एवं अंतिम दिन मनोज शर्मा, चेयरमैन, मध्य प्रदेश स्टेट कमेटी, श्री अरविंद सोसाइटी हमारा असली व्यक्तित्व विषय पर वक्तव्य दिया।

सप्त दिवसीय  ऑरोयूथ राष्ट्रीय कार्यशाला

ऑरोयुथ विंग, श्री ऑरोबिंदो सोसायटी, पुद्दुचेरी एवं आर्य महिला पी जी कॉलेज के सयुंक्त तत्वावधान में सात दिवसीय ऑरोयूथ  राष्ट्रीय ऑनलाइन कार्यशाला " एक नयी सुबह की ओर"  

दिनांक 26 जुलाई 2020 को शाम 6 से 7.30 बजे ऑरोयुथ विंग, श्री ऑरोबिंदो सोसायटी, पुद्दुचेरी एवं आर्य महिला पी जी कॉलेज के सयुंक्त तत्वावधान में सात दिवसीय ऑरोयूथ  राष्ट्रीय ऑनलाइन कार्यशाला " एक नयी सुबह की ओर" के सातवें एवं अंतिम दिन मनोज शर्मा,  चेयरमैन, मध्य प्रदेश स्टेट कमेटी, श्री अरविंद सोसाइटी हमारा असली व्यक्तित्व विषय पर वक्तव्य दिया। उन्होंने बताया कि हमारे व्यक्तित्व के दो प्रमुख पक्ष होते हैं - बाहरी और आंतरिक
इनको मिलाकर ही हमारा पूरा व्यक्तित्व बनता है।बाहरी व्यक्तित्व में हमारा रूप ,रंग,फिटनेस, वाणी सब आती है। लेकिन असली व्यक्तित्व हमारा आंतरिक होता है जिसमे बदलाव आने पर सम्पूर्ण व्यक्तित्व आभामय व प्रभावी होता जाता है।हमसब केवल बाहरी रूप से भिन्न नहीं है बल्कि मूल में हम सबमे कुछ यूनिकनेस है जो हमे एक दूसरे से अलग बनाती है।

हमारी हॉबीज हमें संकेत देती है इस बारे में।जैसे जैसे व्यक्तित्व में पूर्णता की चाहत,कृतज्ञता  व सामंजस्यता बढ़ती है हम प्रगति पथ पर खुशहाली के साथ आगे बढ़ते जाते हैं।जब हम भीतर रहना सीख जाते हैं तब हमारी प्रतिक्रियाएं भी भीतर से आती है जो सधी हुई होती हैं। इसके अलावा प्रार्थना  की शक्ति भी हमारे जीवन को गढ़ने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है।

इस कार्यशाला के विभिन्न बिंदुओं, परिकल्पना और उद्देश्य  एवं भविष्य की योजना पर श्रीनिवास मुलुगु, ऑरोयूथ डायरेक्टर, पुद्दुचेरी ने प्रकाश डाला।

स्वागत डॉ बिंदु लाहिड़ी ने किया।समापन समारोह में डॉ शशिकांत दीक्षित एवं प्रो रचना दूबे ने अपने आशीर्वचन दिए।पलक दूबे ने कार्यक्रम का संचालन किया। तकनीकी सहयोग राघव शर्मा ने दिया। संयोजन एवम् धन्यवाद् ज्ञापन डॉ दीपिका बरनवाल ने किया।  कार्यक्रम में प्रो अखिलेश कुमार, डॉ बृजबाला सिंह,डॉ बंदना बाल चंदनानी, डॉ गीता, डॉ झुमुर सेन गुप्ता, डॉ श्रग्धरा  ऑनलाइन उपस्थित रहे। कार्यक्रम में 300 प्रतिभागी शामिल थे।

सधन्यवाद
कार्यक्रम संयोजक
डाॅ दीपिका बरनवाल