सहायक शिक्षक भर्ती मामले की फाइनल सुनवाई आज

प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती मामले में आज फाइनल सुनवाई होगी। दोपहर 2  बजे से सुनवायी होगी | 6  जनवरी 2019 को ये भर्ती परीक्षा हुई  थी और 15 फरवरी 2019 को सरकार द्वारा इस भर्ती का नियुक्ति पत्र बाटना था |  6  जनवरी 2019 को लिखित परीक्षा के एक दिन बाद 7 जनवरी 2019 को अधितम अंक 60/65 प्रतिशत निर्धारित कर दिया गया। जबकि शासनादेश में इसका कोई जिक्र नहीं था। अभ्यर्थियों ने कटऑफ के खिलाफ 11 जनवरी को फिर से याचिका दाखिल की थी। तब से यह मामला कोर्ट में लबित है |

प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती मामले में आज फाइनल सुनवाई होगी। दोपहर 2  बजे से सुनवायी होगी | 6  जनवरी 2019 को ये भर्ती परीक्षा हुई  थी और 15 फरवरी 2019 को सरकार द्वारा इस भर्ती का नियुक्ति पत्र बाटना था |  6  जनवरी 2019 को लिखित परीक्षा के एक दिन बाद 7 जनवरी 2019 को अधितम अंक 60/65 प्रतिशत निर्धारित कर दिया गया। जबकि शासनादेश में इसका कोई जिक्र नहीं था। अभ्यर्थियों ने कटऑफ के खिलाफ 11 जनवरी को फिर से याचिका दाखिल की थी। तब से यह मामला कोर्ट में लबित है | इसे परीक्षा में सम्मिलित 410440 अभ्यर्थियों का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा क़ि  लिखित परीक्षा परिणाम और कटऑफ को लेकर हुए विवाद के कारण परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय आज तक अंतिम उत्तरकुंजी तक जारी नहीं कर सका है।  हाईकोर्ट की सिंगल  बेंच ने कटऑफ 40/45 फीसदी करने का आदेश दिया। इसके खिलाफ सरकार ने 22 मई को डबल बेंच में याचिका दायर की जो अभी तक पूरी नहीं हो पाई है।  इन अपीलों पर बीते सोमवार को भी न्यायमूर्ति पंकज कुमार जायसवाल और न्यायमूर्ति करुणेश सिंह पवार की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई जारी रही। राज्य सरकार समेत अन्य अभ्यर्थियों की विशेष अपीलों पर हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ में आज अंतिम फैसला सुनाया जायेगा।


डबल बेंच में 22 मई को सरकार की तरफ से याचिका दायर होने के बाद से यह मामला आज तक कोर्ट का मुँह तक रहा। इस दौरान कई तारीख पर महाधिवक्ता के उपस्थित नहीं होने के कारण सुनवाई नहीं हो सकी। प्रभावी पैरवी के लिए अभ्यर्थियों ने 27 अगस्त और 11-12 सितंबर को लखनऊ में धरना भी दिया। 17 सितंबर को प्रधानमंत्री के जन्मदिन पर ट्विटर पर पूरे दिन यह मामला ट्रेंड हुआ लेकिन किसी का ध्यान इस ओर नहीं जा रहा। गौरतलब है कि प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा हुए एक साल से  ज्यादा  का समय पूरा हो चूका है। पर आज भी अभ्यर्थियों को इस बात का इंतज़ार है की एक के बाद एक सुनवाई के बाद  कब उनके भविष्य के रस्ते को हरी झंडी मिलेगी |