154 साल पुरानी सुपरफास्ट ट्रेन कालका मेल का नाम बदला गया

ब्रिटिश शासनकाल से चलने वाली देश की प्रथम सुपरफास्ट मेल एक्सप्रेस का नाम बदलकर नेताजी एक्सप्रेस कर दिया गया है। दरसअल बतादे ब्रिटिशकाल से रेल पटरी पर फर्राटा भर रही कालका मेल का नाम अब इतिहास में पन्नों में दर्ज कर दिया गया है। 12311 अप 12312 डाउन कालका मेल का 1866 में शुभारंभ हुआ था।बता दें कि कालका मेल पहली बार 1 जनवरी 1866 को चली थी।

154 साल पुरानी सुपरफास्ट ट्रेन कालका मेल का नाम बदला गया

ब्रिटिश शासनकाल से चलने वाली देश की प्रथम सुपरफास्ट मेल एक्सप्रेस का नाम बदलकर नेताजी एक्सप्रेस कर दिया गया है। दरसअल बतादे ब्रिटिशकाल से रेल पटरी पर फर्राटा भर रही कालका मेल का नाम अब इतिहास में पन्नों में दर्ज कर दिया गया है। 12311 अप 12312 डाउन कालका मेल का 1866 में शुभारंभ हुआ था।बता दें कि कालका मेल पहली बार 1 जनवरी 1866 को चली थी।

 तब ट्रेन का नाम 63 अप हावड़ा पेशावर एक्सप्रेस था और अब केन्द्र सरकार ने 154 साल पुरानी देश की पहली सुपरफास्ट ट्रेन कालका मेल का नाम बदलकर नेताजी एक्सप्रेस कर दिया है। सरकार ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी सुभाषचन्द्र बोस जयंती के मद्देनजर यह फैसला किया। अब यात्री कालका मेल को नेताजी के नाम से जानेंगे।

कहा जाता है की 18 जनवरी 1941 को फिरंगियों को चकमा देकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस इसी ट्रेन पर धनबाद जिले के गोमो जंक्शन से सवार होकर निकले थे।इसलिए नेताजी की यादों से जुड़ी होने के कारण ही रेलवे ने कालका मेल का नामकरण नेताजी एक्सप्रेस के रूप में किया है। एक पत्रिका के अनुसार सीनियर डीसीएम रूपेश कुमार ने बताया कि कालका मेल का नाम बदलकर नेताजी एक्सप्रेस कर दिया गया है।

 इस बारे में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। रेल मंत्री ने अपने ट्विटर संदेश में लिखा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस के प्राकट्य ने भारत को स्वतंत्रता और विकास के एक्सप्रेस मार्ग पर आगे बढ़ाया था। मैं उनकी जयंती के मौके पर नेताजी एक्सप्रेस की शुरुआत के साथ बेहद रोमांचित हूं। और अभी 02311 अप और 02312 डाउन बनकर चल रही ट्रेन अपने पुराने नंबर 12311 अप और 12312 डाउन नेताजी एक्सप्रेस बनकर चलेगी।