पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर आई बढ़ोतरी,100रु तक पहुंच दाम

दिन पे दिन पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है | आज फिर पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ी हैं। 9 फरवरी को पेट्रोल 41 और डीजल 38 पैसे तक महंगा हुआ है। इस बढ़ोतरी के बाद राजस्थान के गंगानगर में प्रीमियम पेट्रोल के दाम 101 रुपए प्रति लीटर को पार कर गए हैं।

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर आई बढ़ोतरी,100रु तक पहुंच दाम

दिन पे दिन पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है | आज फिर पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ी हैं। 9 फरवरी को पेट्रोल 41 और डीजल 38 पैसे तक महंगा हुआ है। इस बढ़ोतरी के बाद राजस्थान के गंगानगर में प्रीमियम पेट्रोल के दाम 101 रुपए प्रति लीटर को पार कर गए हैं। हालांकि सादा पेट्रोल 97.72 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 87.34 हो गई है। वहीं डीजल 77.52 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से बिक रहा है। इसके अलावा मुंबई में पेट्रोल 93.83 और भोपाल में ये 95.19 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है।

हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (HPCL) के हेड, मुकेश कुमार सुराणा ने कहा कि पिछले 2-3 दिनों में अंतर्राष्ट्रीय तेल की कीमतों में अचानक 59 डॉलर प्रति बैरल तक की वृद्धि हुई है। इसकी बड़ी वजह ये है कि साऊदी ने तेल की मांग और आपूर्ति के साथ प्रोडक्शन में कटौती की है।

सुराणा ने कहा कि रिटेल प्राइस केंद्र और राज्य सरकार के टैक्स के बाद तय होती है। देश के सिर्फ 25% से 30% रिटेल पंप की कीमतें इंटरनेशनल बेंचमार्क लागत पर निर्भर हैं। बाकी कीमतें केंद्र और राज्य सरकार के टैक्स से तय होती हैं। ऐसे में हमारे पास ग्राहकों के लिए कोई विकल्प नहीं रह जाता। सरकार टैक्स घटाती है तो कीमतें भी कम हो सकती हैं।

आए समझते है की कच्चे तेल से पेट्रोल-डीजल पंप तक कैसे पहुंचता है। पहले कच्चा तेल बाहर से आता है। वो रिफायनरी में जाता है, जहां से पेट्रोल और डीजल निकाला जाता है। इसके बाद ये तेल कंपनियों के पास जाता है। तेल कंपनियां अपना मुनाफा बनाती हैं और पेट्रोल पंप तक पहुंचाती हैं। पेट्रोल पंप पर आने के बाद पेट्रोल पंप का मालिक अपना कमीशन जोड़ता है। ये कमीशन तेल कंपनियां ही तय करती हैं। उसके बाद केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से जो टैक्स तय होता है, वो जोड़ा जाता है। उसके बाद सारा कमीशन, टैक्स जोड़ने के बाद पेट्रोल और डीजल हम तक आता है।