पीएम के आगमन से पूर्व अजय राय का सवाल? | वाराणसी न्यूज़ | पीएम मोदी | अजय राय | ZNDM NEWS

प्रधानमंत्री के आगमन से पहले आज पूर्व विधायक अजय राय ने पीएम पर निशाना साधते हुवे बडा बयान दिया है     प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में एक ओर बेरोजगारी और तंगहाली के चलते परिवार के साथ आत्महत्या की शर्मनाक वारदातें हो रही हैं, तो दूसरी ओर वह नौजवानों को रोजगार देने और व्यापारी एवं किसान को घाटे एवं कर्ज से उबारने की चिन्ता छोड़ स्मारकों या गलियारों की मंहगी सौगातें थमा रहे हैं। किसान हित के लिए बने गन्ना संस्थान की जमीन को मंहगे दीनदयाल उपाध्याय स्मारक का रूप देने से बेहतर होता गरीब आदमी के सस्ते भोजन की दीनदयाल कैंटीन या कोई अन्य लोककल्याणकारी संस्थान उनके नाम बनाते।

प्रधानमंत्री के आगमन से पहले आज पूर्व विधायक अजय राय ने पीएम पर निशाना साधते हुवे बडा बयान दिया है
    प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में एक ओर बेरोजगारी
और तंगहाली के चलते परिवार के साथ आत्महत्या की शर्मनाक वारदातें हो रही हैं, तो दूसरी ओर वह नौजवानों को रोजगार देने और व्यापारी एवं किसान को घाटे एवं कर्ज से उबारने की चिन्ता छोड़ स्मारकों या गलियारों की मंहगी सौगातें थमा रहे हैं। किसान हित के लिए बने गन्ना संस्थान की जमीन को मंहगे दीनदयाल उपाध्याय स्मारक का रूप देने से बेहतर होता गरीब आदमी के सस्ते भोजन की दीनदयाल कैंटीन या कोई अन्य लोककल्याणकारी संस्थान उनके नाम बनाते।
 अजय राय ने ये भी कहा की प्रधानमंत्री जी वाराणसी के सांसद जरूर हैं, पर इतने दिनों में यहां की बुनियादी जरूरतों की समझ भी नहीं बना सके। और  ऐसी परियोजनाओं पर बड़े निवेश किये गए , जिनका लाभ यहां के आम आदमी की जगह निर्माणकर्ता खास कंपनियों को ही पहुंचा। सफेद हाथी की तरह 44 हजार करोड़ से अविरल प्रवाह रहित गंगा में बना बंदरगाह ज्वलंत उदाहरण है, जो  बनारस की अर्थव्यवस्था के तकाजों से कोई वास्ता नहीं रखता। रोजगारपरक और व्यवसाय एवं कृषि को आगे बढ़ाने के कामों का सपना तो सपना रहा गया।
      किसानो को ले कर उन्होंने कहा की किसान पीड़ा में है छ: साल में खेती की लागत दो से तीन गुना बढ़ी और मामूली वृद्धि वाला समर्थन मूल्य भी किसान को पूरा  नहीं मिल रहा।
     मंहगाई ने भी सारे रिकार्ड तोड़ दिये हैं। रसोई गैस के दाम भाजपा राज में दोगुने हुये। ₹144 की ताजा वृद्धि असल में  : ₹244 की वृद्धि है, क्योंकि सब्सिडी भी ₹100 कम कर दी गई है। भाजपा सरकार बनने पर ₹300 की रसोई गैस और ₹30 का पेट्रोल दिलाने के सब्जबाग वालों का अब कहीं आता पता नहीं है।