लगातार बढ़े प्रदूषण की शिकायत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने दिया 8 सप्ताह मे कार्यवाई का आदेश

शहर बनारस में लगातार बढ़ रहे प्रदुषण को लेकर क्रांति फाउंडेशन संस्था ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से शिकायत की है और अब क्रांति फाउंडेशन संस्था की शिकायत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने आदेश देते हुए उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से 8 सप्ताह मे कार्यवाई करने को कहा है। और अब इस संबंध मे दिनांक 23 नवंबर 2021को जारी राष्ट्रीय मानवाधिकार आदेश के अनुसार चेयरमैन,उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को निर्धारित 8 सप्ताहों की अवधि मे कार्यवाई कर शिकायतकर्ता ई०राहुल कुमार सिंह को सूचित करने का निर्देश दिया गया है।

लगातार बढ़े प्रदूषण की शिकायत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने दिया 8 सप्ताह मे कार्यवाई का आदेश

शहर बनारस में लगातार बढ़ रहे प्रदुषण को लेकर क्रांति फाउंडेशन संस्था ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से शिकायत की है और अब  क्रांति फाउंडेशन संस्था की शिकायत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने आदेश देते हुए उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से 8 सप्ताह मे कार्यवाई करने को कहा है। और अब इस संबंध मे दिनांक 23 नवंबर 2021को जारी राष्ट्रीय मानवाधिकार आदेश के अनुसार चेयरमैन,उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को निर्धारित 8 सप्ताहों की अवधि मे कार्यवाई कर शिकायतकर्ता ई०राहुल कुमार सिंह को सूचित करने का निर्देश दिया गया है।

 

 

इस विषय पर शिकायतकर्ता व क्रांति फाउंडेशन संस्था के अध्यक्ष ई०राहुल कुमार सिंह ने बताया कि काशी तथा उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों मे बढ़ते प्रदूषण को लेकर उन्होने दिनांक 18 नवंबर 2021 को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग मे शिकायत दर्ज करायी थी।जिसका संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस विषय पर मुकदमा दर्ज कर लिया था।श्री सिंह ने बताया कि काशी तथा उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों मे प्रदूषण की भयावह स्थिति है।

 

 

 

इस वजह से आम जनता कोकाफी ज्यादा  परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बावजूद इसके उत्तर प्रदेश सरकार अथवा उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा प्रदूषण को कम करने के लिए अब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाये जा रहे हैं। लगातार शिकायतों के बावजूद प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी मात्र रिपोर्ट बनाने मे व्यस्त हैं।उत्तर प्रदेश सरकार व प्रदूषण बोर्ड बिना कोई कार्यवाई किये मात्र इस बात का इंतजार कर रहा है कि बढ़ा हुआ प्रदूषण स्वयं से कम हो जाये।श्री सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की लापरवाही का नतीजा प्रदेश की जनता जहरीली हुई हवा के रूप मे झेल रही है।