कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा ने दुनिया को कहा अलविदा

कांग्रेस को हुआ बढ़ा घटा पार्टी के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का सोमवार को दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट अस्पताल में निधन हो गया। 93 वर्षीय मोतीलाल वोरा का कल यानि 20 दिसंबर) को जन्मदिन मनाया उन्होंने अपनी 93 वर्ष पुरे किये थे लेकिन उसके बाद सोमवार को उन्होंने अपने इस सफर पर विराम लगा दिया। दिल्ली के फोर्टिंस अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा ने दुनिया को कहा अलविदा

कांग्रेस को हुआ बढ़ा घटा पार्टी के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का सोमवार को दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट अस्पताल में निधन हो गया। 93 वर्षीय मोतीलाल वोरा का  कल यानि 20 दिसंबर) को जन्मदिन मनाया  उन्होंने अपनी 93  वर्ष पुरे किये थे लेकिन उसके बाद सोमवार को उन्होंने अपने इस सफर पर विराम लगा दिया। दिल्ली के फोर्टिंस अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली।

इस दुखद सुचना पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर शोक जताया। उन्होंने कहा कि वोरा जी एक सच्चे कांग्रेसी और शानदार इंसान थे। हम उन्हें काफी मिस करेंगे। उनके परिवार और दोस्तों के प्रति मेरा प्यार और संवेदनाएं।

 बता दे की वोरा मध्य प्रदेश के दो बार मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। वे पहली बार साल 1985-1988 तक सीएम रहे थे और फिर 1989 में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। 2000 से 2018 तक 18 साल की लंबी अवधी में पार्टी के कोषाध्यक्ष भी रहे थे।

राजनीती के इतिहास को खंगालें  तो 1968 में समाजपार्टी के सदस्य रहे वोरा अविभाजित मध्यप्रदेश की दुर्ग म्यूनिसिपल कमेटी के सदस्य बने। 1970 में कांग्रेस में शामिल हुए। 1972 में कांग्रेस के टिकट पर विधायक बने। इसके बाद 1977 और 1980 में भी विधायक चुने गए। अर्जुन सिंह की कैबिनेट में पहले उच्च शिक्षा विभाग में राज्य मंत्री रहे। 1983 में कैबिनेट मंत्री बनाए गए। 1981-84 के दौरान वे मध्यप्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के चेयरमैन का भी रहे। 13 मार्च 1985 से 13 फरवरी 1988 तक और 25 जनवरी 1989 से 9 दिसंबर 1989 तक दो बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे।