FIR की फ्री होम डिलीवरी, लॉकडाउन उल्लंघन पर पुलिस ने लॉटरी निकाल दर्ज किया एफआईआर

FIR की फ्री होम डिलीवरी, लॉकडाउन उल्लंघन पर पुलिस ने लॉटरी निकाल दर्ज किया एफआईआर

आप अभी तक ऑनलाइन शॉपिंग और  फ़ूड आइटम्स की होम डिलीवरी अक्सर अपने घर और ऑफिस पर पाते रहे होंगे, लेकिन अब  कानून तोड़ने वालों को  FIR  की भी होम डिलीवरी मिलेगी | कोरोना वायरस के चलते पूरे देश 12 अप्रैल तक लॉकडाउन है| अब तक यूपी सरकार आपके घर राशनऔर जरुरी सामानों की  होम डिलीवरी कर रही थी लेकिन अब अगर आप मुज़फ्फरनगर जनपद में है और लॉकडाउन बार बार का उल्लंघन कर रहे है तो आपको FIR की भी फ्री होम डिलीवरी मिल जायेगी। इस होम डिलीवरी में आपके लिए कोई लज़ीज़ व्यंजन नहीं, बल्कि पुलिस आएगी और आपके घर पर एफआईआर की कॉपी फ्री होम डिलीवरी के रूप में चस्पा कर देगी और फिर आपको जेल की हवा खानी पड़ सकती  है। अगर आपको हवालात की हवा नहीं खानी है तो लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करें। आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी करनी हो या मेडिकल की आवश्यकता पड़ने पर ही अपने घर से बाहर निकलें|  मुज़फ्फरनगर के एसएसपी अभिषेक यादव अपनी टीम के साथ मिलकर बार बार जनता से घरों में रहने की अपील कर रहे है| एसएसपी का कहना है कि  अपील के बाद भी कुछ लोग लॉकडाउन का उल्लंघन करने से नहीं मान रहे है। सरकार ने आवश्यक वस्तुओं एंव मेडिकल की सुविधा के लिए छूट दे राखी है, मगर कुछ लोग लगातार लॉकडाउन के नियम तोड़ने पर लगे हुए है। ऐसे में पुलिस की टीम सादे कपड़ो में गली मोहल्लों में जाएगी और लॉकडाउन  तोड़ने  वालों का वीडियो बनाएगी,जिसके आधार पर लॉटरी निकाल एफआईआर दर्ज करेगी और उसके कॉपी की फ्री होम डिलीवरी करेगी| एसएसपी ने यह भी कहा, "अगर आप एफआईआर नहीं लेंगे तो इसे आपके घर के बाहर चस्पा कर दिया जाएगा। जिसने इसे फाड़ा तो दूसरा मुकदमा दर्ज होगा। आप अगर एफआईआर ऐसे ही फाड़ते रहे तो मुकदमे दर्ज होते जाएंगे।"   बता दें कि कई इलाकों में अभी भी लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे|  पुलिस को देखते ही लोग अपने घर में चले जाते हैं, लेकिन पुलिस के जाते ही फिर लोगों का झुंड गलियों में, नुक्कड़ पर, चौराहे पर दिखाई देने लगता था| इसी कड़ी में एक दिन पहले ही मुजफ्फरनगर में पुलिस पर पथराव की घटना भी सामने आई थी|  झुंड में खड़े लोगों को लॉकडाउन का अनुपालन करने के लिए समझाने पहुंची पुलिस टीम पर लोगों ने पथराव कर दिया था|

आप अभी तक ऑनलाइन शॉपिंग और  फ़ूड आइटम्स की होम डिलीवरी अक्सर अपने घर और ऑफिस पर पाते रहे होंगे, लेकिन अब  कानून तोड़ने वालों को  FIR  की भी होम डिलीवरी मिलेगी | कोरोना वायरस के चलते पूरे देश 12 अप्रैल तक लॉकडाउन है| अब तक यूपी सरकार आपके घर राशनऔर जरुरी सामानों की  होम डिलीवरी कर रही थी लेकिन अब अगर आप मुज़फ्फरनगर जनपद में है और लॉकडाउन बार बार का उल्लंघन कर रहे है तो आपको FIR की भी फ्री होम डिलीवरी मिल जायेगी। इस होम डिलीवरी में आपके लिए कोई लज़ीज़ व्यंजन नहीं, बल्कि पुलिस आएगी और आपके घर पर एफआईआर की कॉपी फ्री होम डिलीवरी के रूप में चस्पा कर देगी और फिर आपको जेल की हवा खानी पड़ सकती  है। अगर आपको हवालात की हवा नहीं खानी है तो लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करें। आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी करनी हो या मेडिकल की आवश्यकता पड़ने पर ही अपने घर से बाहर निकलें|
मुज़फ्फरनगर के एसएसपी अभिषेक यादव अपनी टीम के साथ मिलकर बार बार जनता से घरों में रहने की अपील कर रहे है| एसएसपी का कहना है कि  अपील के बाद भी कुछ लोग लॉकडाउन का उल्लंघन करने से नहीं मान रहे है। सरकार ने आवश्यक वस्तुओं एंव मेडिकल की सुविधा के लिए छूट दे राखी है, मगर कुछ लोग लगातार लॉकडाउन के नियम तोड़ने पर लगे हुए है। ऐसे में पुलिस की टीम सादे कपड़ो में गली मोहल्लों में जाएगी और लॉकडाउन  तोड़ने  वालों का वीडियो बनाएगी,जिसके आधार पर लॉटरी निकाल एफआईआर दर्ज करेगी और उसके कॉपी की फ्री होम डिलीवरी करेगी| एसएसपी ने यह भी कहा, "अगर आप एफआईआर नहीं लेंगे तो इसे आपके घर के बाहर चस्पा कर दिया जाएगा। जिसने इसे फाड़ा तो दूसरा मुकदमा दर्ज होगा। आप अगर एफआईआर ऐसे ही फाड़ते रहे तो मुकदमे दर्ज होते जाएंगे।"


बता दें कि कई इलाकों में अभी भी लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे|  पुलिस को देखते ही लोग अपने घर में चले जाते हैं, लेकिन पुलिस के जाते ही फिर लोगों का झुंड गलियों में, नुक्कड़ पर, चौराहे पर दिखाई देने लगता था| इसी कड़ी में एक दिन पहले ही मुजफ्फरनगर में पुलिस पर पथराव की घटना भी सामने आई थी|  झुंड में खड़े लोगों को लॉकडाउन का अनुपालन करने के लिए समझाने पहुंची पुलिस टीम पर लोगों ने पथराव कर दिया था|