बांग्लादेश में हिन्दुओं पर ही रहे हमले को लेकर वाराणसी में बांग्लादेशी जेहादियों का फुका गया पुतला

वाराणसी में आज मुस्लिम महिलाओ के द्वारा बांग्लादेश में हिन्दुओं के ऊपर हो रहे हमले को लेकर आज हल्ला बोला है दरसअल आप को बतादे इस दौरान महिलाओ का कहना था की बांग्लादेश में इस्लामी जिहादियों ने हिन्दुओं के मंदिरों पर हमला करके अपनी असहिष्णुता का परिचय दे दिया है। जिहादियों ने सुनियोजित तरीके से दुर्गा पूजा पण्डालों में हमला किया, हिन्दुओं का कत्लेआम किया और हिन्दुओं को बांग्लादेश से भगाने की साजिश रची। मुस्लिम महिला फाउंडेशन के नेशनल सदर नाज़नीन अंसारी पहले सुभाष मंदिर पहुंचीं, वहां महानायक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का दर्शन किया और माला समर्पित किया। तत्पश्चात् प्रदर्शन शुरू किया।

बांग्लादेश में हिन्दुओं पर ही रहे हमले को लेकर वाराणसी में बांग्लादेशी जेहादियों का फुका गया पुतला

वाराणसी में आज मुस्लिम महिलाओ के द्वारा बांग्लादेश में हिन्दुओं  के ऊपर हो रहे हमले को लेकर आज हल्ला बोला है दरसअल आप को बतादे इस दौरान महिलाओ का कहना था की बांग्लादेश में इस्लामी जिहादियों ने हिन्दुओं के मंदिरों पर हमला करके अपनी असहिष्णुता का परिचय दे दिया है। जिहादियों ने सुनियोजित तरीके से दुर्गा पूजा पण्डालों में हमला किया, हिन्दुओं का कत्लेआम किया और हिन्दुओं को बांग्लादेश से भगाने की साजिश रची।
 मुस्लिम महिला फाउंडेशन के नेशनल सदर नाज़नीन अंसारी पहले सुभाष मंदिर पहुंचीं, वहां महानायक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का दर्शन किया और माला समर्पित किया। तत्पश्चात् प्रदर्शन शुरू किया। 

 

 

मुस्लिम महिलाओं ने बांग्लादेश की घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इन्द्रेश नगर लमही में स्थित सुभाष भवन के सामने बांग्लादेशी जिहादियों का पुतला फूंका। मुस्लिम महिलाएं हाथों में तख्ती लिए हुए थी, जिस पर लिखा था- जिहादियों को जेल में डालो, बांग्लादेश में हिन्दुओं पर अत्याचार बन्द करो, संयुक्त राष्ट्र संघ हिन्दुओं पर हो रहे अत्याचार पर ध्यान दे, बांग्लादेश की सरकार हिन्दुओं की सुरक्षा करे। आक्रोशित मुस्लिम महिलाओं ने पुतले को डंडों से पीटा और जिहादियों को ये सन्देश भेजा कि वे हिंसा, हत्या और हराम का रास्ता छोड़ दें वरना पूरी दुनियां उनके खिलाफ खड़ी हो जाएगी।

 

 


इस दौरान नाजनीन अंसारी ने कहा की हिन्दुस्तान में सौ करोड़ हिन्दुओं के बीच बीस करोड़ मुसलमान सुरक्षित हैं। इसी तरह मुस्लिम देशों मंह हिन्दू अपने पूजा पद्धति के साथ सुरक्षित क्यों नहीं रह पाते। यह इस्लामी जगत के लिए बहुत बड़ा सवाल है और पूरी दुनियां को अब मंथन करना चाहिए।
इस अवसर पर मुस्लिम महिला फाउंडेशन के नेशनल सदर नाज़नीन अंसारी ने कहा कि बांग्लादेश में इस्लामी जिहादियों की कायरतापूर्वक हमला पूरी दुनियां में घृणा पैदा करने वाला है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना इस घटना को अत्यंत गम्भीरता से लें और जिहादी ताकतों पर तुरंत अंकुश लगाए। बांग्लादेश को याद रखना चाहिए कि पाकिस्तान के क्रूरतम अत्याचारों से भारत ने ही उसे आज़ादी दिलाई थी। 

 

 

 

बांग्लादेश बंग बन्धु शेख मुजीबुर्रहमान के संविधान को लागू करें, जिसमें उन्होंने बांग्लादेश को सेकुलर राष्ट्र बनाने का वादा किया था। बांग्लादेश को पाकिस्तान से सबक लेना चाहिए कि इसी इस्लामी आतंकवाद और जिहाद की वजह से पूरी दुनियां पाकिस्तान से नफरत करती है। पाकिस्तान के लोगों की विश्वसनीयता समाप्त हो चुकी है। एक राज्य की तरह व्यवहार करने में पाकिस्तान पूरी तरह फेल हो चुका है। बांग्लादेश ने समय रहते इन जिहादियों पर लगाम नहीं लगाया तो पूरी दुनियां के शांतिप्रिय लोग बांग्लादेश के खिलाफ भी खड़े हो जाएंगे। 

 

 


मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नजमा परवीन ने कहा कि इस्लाम के नाम पर आतंकवादियों और जिहादियों ने जिस तरह से हिंसा फैला रखी है उससे पूरी दुनियां में मुसलमानों का जीना मुश्किल हो गया है। तालिबानियों ने हिंसा, हत्या और महिला उत्पीड़न का जो नया दर्शन दिया है उसे दुनियां का कोई भी सभ्य देश स्वीकार नहीं कर सकता। आज पूरी दुनियां इस्लामी जिहादियों के खिलाफ एक हो रही है। बांग्लादेशी मुसलमानों ने अगर हिन्दुओं को भगाने की गलती की तो दुनियांभर के लोगों की सहानुभूति बांग्लादेशी मुसलमानों से खत्म हो जाएगी। पाकिस्तानी मुसलमानों की तरह वे भी घृणा और नफरत के पात्र बन जाएंगे और पूरी दुनियां में रोहिंग्या मुसलमानों की तरह दर-दर भटकने को मजबूर होंगे।