मिर्ज़ापुर तहरी और 400 ग्राम दूध 1 किलो चावल को 32 बच्चों में विभाजित किया गया |

मिर्जापुर में एमडीएम में नमक रोटी मिलने के प्रकरण के बाद अब मझवां ब्लाक में बरैनी गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में एक किलो चावल की तहरी और चार सौ ग्राम दूध 32 बच्चों में बांटने का मामला सामने आया है। इसका खुलासा बुधवार को विंध्याचल मंडल के मंडलीय समन्वयक एमडीएम के निरीक्षण में हुआ। पिछले साल की 22 अगस्त को शिउर प्राथमिक विद्यालय के मिड डे मील में नमक-रोटी देने की वजह से चर्चा में आए मीरजापुर में फिर इसी तरह की लापरवाही दिखी।

मिर्जापुर में एमडीएम में नमक रोटी मिलने के प्रकरण के बाद अब मझवां ब्लाक में बरैनी गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में एक किलो चावल की तहरी और चार सौ ग्राम दूध 32 बच्चों में बांटने का मामला सामने आया है। इसका खुलासा बुधवार को विंध्याचल मंडल के मंडलीय समन्वयक एमडीएम के निरीक्षण में हुआ। पिछले साल की 22 अगस्त को शिउर प्राथमिक विद्यालय के मिड डे मील में नमक-रोटी देने की वजह से चर्चा में आए मीरजापुर में फिर इसी तरह की लापरवाही दिखी। इस बार एक किलो चावल में 32 बच्चों के लिए तहरी  साथ ही सिर्फ 400 मिली दूध सबमें बांटा गया।
बरैनी गांव के जूनियर हाईस्कूल में 68 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं। निरीक्षण के दौरान स्कूल में  कुल 32 छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।इन सबके लिए करीब 4 किलो 800 ग्राम चावल की  तहरी व 6 लीटर 300 मिली दूध दिया जाना चाहिए था।  मंडलीय समन्वयक राकेश कुमार तिवारी द्वारा परिषदीय स्कूलों की औचक जांच में  बुधवार को मामले का खुलासा हुआ।  निरिक्षण के दौरान किचन में केवल चार सौ ग्राम दूध का सिर्फ एक पैकेट मिला। पूछने पर रसोइया ने बताया कि चार सौ ग्राम दूध में पानी मिलाकर 32 छात्रों में बांटा गया है।वही एक किलो चावल की तहरी चूल्हे पर पक रही थी। रसोइया से मिली जानकारी के बाद मंडलीय समन्वयक ने सहायक अध्यापक प्रकाश नाथ पटेल व सहचर रमेश से इस बारे में पूछताछ की। जानकारी सही मिलने पर ने निष्ठा ट्रेनिंग में गए प्रधानाध्यापक तेजू को फोन पर ही कड़ी फटकार लगाई।पहले भी  प्रधानाध्यापक तेजू को मानक और मेन्यू के अनुसार मध्याह्न् भोजन, दूध, फल वितरण करने के लिए चेताया गया था लेकिन स्थिति जस की तस बनी रही।  कोई सुधार नहीं होने पर कार्रवाई के लिए इसकी रिपोर्ट मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक को भेजी जा रही है। मंडलीय समन्वयक ने प्रधानाध्यापक पर  कड़ी कार्रवाई के लिए बीएसए को पत्र भी  लिखा है।