शर्मनाक -बिहार के Bhagalpur में कोरोना पीड़ित पति के इलाज के दौरान पत्नी से हुई छेड़छाड़

मामला ये बिहार के भागलपुर और पटना से है , जहां मधुबनी की रहनी वाली एक महिला के साथ उसके पति के इलाज के क्रम में अभद्रता और छेड़खानी की घटना हुई है| अस्पताल की कुव्यवस्था के कारण इनकी पति की जान चली गई वहीं इस महिला का आरोप है कि अस्पताल में उनके साथ छेड़छाड़ भी हुई है|

शर्मनाक -बिहार के Bhagalpur में कोरोना पीड़ित पति के इलाज के दौरान पत्नी से हुई छेड़छाड़

 पूरा देश इस समय कोरोना की दूसरी मार झेल रहा है | ऐसे बिहार से एक शर्मनाक खबर आ रही है |  बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर अस्पतालों की मनमानी जारी है| बात चाहे सरकारी की हो या प्राइवेट, सभी की स्थिति बुरी है|  मामला ये बिहार के भागलपुर और पटना से है , जहां मधुबनी की रहनी वाली एक महिला के साथ उसके पति के इलाज के क्रम में अभद्रता और छेड़खानी की घटना हुई है| अस्पताल की कुव्यवस्था के कारण इनकी पति की जान चली गई वहीं इस महिला का आरोप है कि अस्पताल में उनके साथ छेड़छाड़ भी हुई है| 

 

 

पीड़ित महिला का नाम रुचि रौशन है जिनके पति की कोरोना से मौत हो गई|  मधुबनी की रहने वाले रौशन चंद्र दास अपनी पत्नी के साथ होली मनाने अपने रिश्तेदार के पास भागलपुर गए हुए थे| उसी दौरान उनके पति कोरोना के शिकार हो गए और उनको इलाज के लिए भागलपुर के ग्लोकल हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया, जहां रोज़ वो सिस्टम से संघर्ष करते रहे. यहां तक कि रुचि रौशन के अनुसार हॉस्पिटल कर्मियों के द्वारा कई बार उनके साथ छेड़छाड़ भी हुई| 

 

 


जब रौशन चंद्र के हालात और बिगड़ने लगे तो उनकी पत्नी उनको लेकर पटना स्थित राजेश्वर अस्पताल आईं, लेकिन इलाज के दौरान उनकी जान चली गई. उनकी पत्नी का आरोप है कि राजेश्वर अस्पताल में भी उनके पति के साथ बहुत बुरा बर्ताव किया गया| डॉक्टर से लेकर वहां के कम्पाउण्डर तक की लापरवाही से उनकी जान चली गई|उन्होंने वहां के कर्मचारियों पर भी छेड़खानी और बदतमीजी के साथ ही मरीजों की जान से खेलने के गंभीर आरोप लगाए हैं|