कलकत्ता के हाई कोर्ट ने निजी स्कूलों के फीस में 20% कटौती के दिए आदेश

निजी स्कूलों के फीस माफ़ी को लेकर कलकत्ता हाई कोर्ट में छात्रों के अभिभावकों के दर्ज याचिका पर आज हाई कोर्ट में सुनवाई हुई। कलकत्ता हाई कोर्ट ने कोरोना महामारी और त्योहारों के बिच अभिभावकों को बढ़ी राहत देते हुए पश्चिम बंगाल के स्कूलों द्वारा लिए जाने वाले शुल्क में 20 प्रतिशत की कटौती का फैसला सुनाया है।

कलकत्ता के हाई कोर्ट ने निजी स्कूलों के फीस में 20% कटौती के दिए आदेश

निजी स्कूलों के फीस माफ़ी को लेकर कलकत्ता हाई कोर्ट में छात्रों के अभिभावकों के दर्ज याचिका पर आज हाई कोर्ट में सुनवाई हुई। कलकत्ता हाई कोर्ट ने कोरोना महामारी और त्योहारों के बिच अभिभावकों को बढ़ी राहत देते हुए पश्चिम बंगाल के स्कूलों द्वारा लिए जाने वाले शुल्क में 20 प्रतिशत की कटौती का फैसला सुनाया है। साथ ही की सुनवाई में कोर्ट ने वित्त वर्ष 2020-21 फीस वृद्धि पर सख्ती से रोक लगायी है।

कोर्ट के अंतरिम आदेश में कहा कि,“वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान फीस में कोई वृद्धि नहीं होगी। अप्रैल 2020 से शुरू होने वाले महीने से लेकर उस महीने तक, जिसमें स्कूल फिजिकल मोड में फिर से खुलते हैं, सभी 145 स्कूल पूरे बोर्ड में फीस में 20 प्रतिशत की कटौती की पेशकश करेंगे।” इसने साथ ही कहा कि सुविधाओं के इस्तेमाल के लिए गैर जरूरी शुल्क की अनुमति नहीं होगी।

न्यायमूर्ति संजीब बनर्जी और न्यायमूर्ति मौसमी भट्टाचार्य की पीठ ने कोर्ट ने आदेश दिया कि वित्त वर्ष 2020-21 में कोई फीस वृद्धि नहीं होगी और अप्रैल 2020 से जब तक स्कूल दोबारा पारंपरिक तरीके से खुल नहीं जाते, तब तक सभी 145 स्कूल शुल्क में कम से कम 20 प्रतिशत कमी करने की पेशकश करेंगे।साथ ही कोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा कि इस याचिका पर वह सात दिसंबर 2020 को दोबारा सुनवाई करेगी। इससे पहले कोर्ट निर्देशों के अनुपालन में हुई प्रगति की निगरानी करेगी।
बता दें कि शहर के 145 निजी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों ने स्कूल फीस में कमी करने का अनुरोध करते हुए याचिका दायर की थी। उनका कहना था कि कक्षाएं केवल ऑनलाइन चल रही हैं।