जानिए कोरोना संक्रमण फेफड़ों को कैसे करता है प्रभावित और कितने दिनों में शुरू होता है इन्फेक्शन ?

कोरोनावायरस की दूसरी लहर में कई लोगों की मौत फेफड़ों में फैले वायरस के संक्रमण से हो रही है ऐसे में आप सबके लिए जानना बहुत जरूरी है कि कोविड-19 आपके फेफड़ों को कैसे प्रभावित करता है, नई दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार डॉ बॉबी भालोत्रा ने कहा है कि कोरोना वायरस फेफड़ों को बहुत बुरी तरीके से जकड़ लेता है,उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया कोविड-19 बीमारी की चुनौती का सामना कर रहा है |

जानिए कोरोना संक्रमण फेफड़ों को कैसे करता है प्रभावित और कितने दिनों में शुरू होता है इन्फेक्शन ?

कोरोनावायरस की दूसरी लहर में कई लोगों की मौत फेफड़ों में फैले वायरस के संक्रमण से हो रही है ऐसे में आप सबके लिए जानना बहुत जरूरी है कि कोविड-19 आपके फेफड़ों को कैसे प्रभावित करता है, नई दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार डॉ बॉबी भालोत्रा ने कहा है कि कोरोना वायरस फेफड़ों को बहुत बुरी तरीके से जकड़ लेता है,उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया कोविड-19 बीमारी की चुनौती का सामना कर रहा है | 


कोरोना वायरस भारत में अचानक फिर से फैल गया है और यह एक बड़ी चुनौती है डॉक्टर भालोत्रा ने कहा कि बहुत सारे संक्रमण और बहुत सारी मौतें कोरोनावायरस के कारण हो रही है कोरोना का यह वायरस सबसे पहले शुरुआत में गले में संक्रमण शुरू कर देता है और अगर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम रहती है तो उसके बाद वायरस सीधे आपके फेफड़ों में जाता है और फेफड़ों मे संक्रमण का कारण बनता है, कोरोना से प्रभावित होने के 5 से 6 दिनों के बाद से फेफड़ों में बदलाव शुरू होते हैं| 


 उसके बाद फेफड़ों में धब्बे जैसे दिखाई देने लगते हैं, उन्होंने बताया कि फेफड़ों में संक्रमण फैलने के बाद सांस फूलना खाँसी आना, खांसी से मुंह से खून आना जैसे आम लक्षण दिखाई देने लगते हैं, हालांकि डॉक्टर ने कहा कि जो लोग वैक्सिंन लगवाये है या जिन लोगों की इमन्युटी अच्छी होती है उन लोगो मे वायरस को रोकने की क्षमता होती है, आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता वायरस को फेफड़ों तक पहुंचने नहीं देती है लेकिन अगर आपने वैक्सीन नहीं लगवाई है या फिर आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता अच्छी नहीं है तो वायरस सीधे गले से आपके फेफड़े में पहुंच जाती है|