काशी-महाकल समेत 168 ट्रेने रद्द | कैंसल ट्रेनों पर 100 प्रतिशत रिफंड | रेलवे न्यूज़ | ZNDM News

कोरोना वायरस की वजह से रेल प्रशासन अब स्टेशन पर काफी सतर्कता बरत रही है|  लेकिन रेल प्रशासन की लाख कोशिस के बाद भी कोरोना वायरस के डर से लोग सफर करने से कतरा रहे है ।जिसकी वजह से ट्रेनों के आरक्षित टिकट लगातार कैंसिल हो रहे हैं। और अब कारपोरेट ट्रेन काशी-महाकल को एक अप्रैल तक के लिए रद कर दिया गया है साथ ही लखनऊ से दिल्ली संचालित तेजस ट्रेन भी 31 मार्च तक रद कर दी है।

कोरोना वायरस की वजह से रेल प्रशासन अब स्टेशन पर काफी सतर्कता बरत रही है|  लेकिन रेल प्रशासन की लाख कोशिस के बाद भी कोरोना वायरस के डर से लोग सफर करने से कतरा रहे है ।जिसकी वजह से ट्रेनों के आरक्षित टिकट लगातार कैंसिल हो रहे हैं। और अब कारपोरेट ट्रेन काशी-महाकल को एक अप्रैल तक के लिए रद कर दिया गया है साथ ही लखनऊ से दिल्ली संचालित तेजस ट्रेन भी 31 मार्च तक रद कर दी है। मंडुआडीह रेलवे स्टेशन से रात आठ बजे तक कुल 563 टिकट कैंसिल हुआ | मंडुआडीह रेलवे स्टेशन पर टिकट कैंसिल कराने वाले यात्रियों ने हंगामा भी किया। वजह थी कैंसिल टिकट का रिफंड देने के लिए टिकट काउंटर पैसे नहीं बचे थे। आप को बता दे यही हालात कैंट, वाराणसी सिटी, काशी, सारनाथ व शिवपुर रेलवे स्टेशनों पर भी बनी रही। ढाई हजार से अधिक टिकटों का कैंसिलेशन हुआ। अभी ऑनलाइन टिकट कैंसिलेनशन का आंकड़ा इसमें शामिल नहीं है। प्लेटफार्म उत्तर रेलवे की ओर से लखनऊ मंडल ने बुधवार को प्लेटफार्म टिकट का दाम 50 रुपये कर दिया है। यह व्यवस्था 15 अप्रैल तक लागू है। रेल प्रशासन को उम्मीद है कि प्लेटफार्म टिकट बढ़ाने से यात्रियों के साथ आने वाले लोगों की संख्या आधी से भी कम हो जाएगी। रेल कर्मियों का कहना है कि जब तक सख्ती नहीं होगी, भीड़ कम नहीं होगी
 आप को बता दे यात्रियों की कमी की वजह से भारतीय रेलवे ने 20 मार्च से 31 मार्च तक 168 ट्रेनों को रद कर  दिया है। रेलवे ने कहा है कि कोरोना वायरस के कारण रद की गई ट्रेनों के लिए कोई कैंसिलेशन चार्ज नहीं लिया जाएगा। ट्रेन कैंसल होने पर यात्रियों को 100 प्रतिशत रिफंड मिलेगा।