Kasganj News : सिपाही कि हत्या और मौत से जंग लड़ रहा घायल दारोगा

कासगंज। शराब माफिया पर शिकंजा कसने पहुंचे और सिपाही पर बदमशों के हमले के बाद सिपाही की मौत हो गई, जबकि दारोगा जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि, दारोगा की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है। मिली जानकारी के मुताबिक, दारोगा के शरीर पर बदमाशों ने कई बार भालों से वार किया है। दारोगा के शरीर में भालों के कई जख्म बने हैं।

Kasganj News : सिपाही कि हत्या और मौत से जंग लड़ रहा घायल दारोगा

शराब माफिया पर शिकंजा कसने पहुंचे और सिपाही पर बदमशों के हमले के बाद सिपाही की मौत हो गई, जबकि दारोगा जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि, दारोगा की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है। मिली जानकारी के मुताबिक, दारोगा के शरीर पर बदमाशों ने कई बार भालों से वार किया है। दारोगा के शरीर में भालों के कई जख्म बने हैं।

गौरतलब है कि, बीती रात कासगंज जनपद के सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के नगला धीमर क्षेत्र में दारोगा अशोक अपने सिपाही सहित वांछित अपराधी शराब माफिया पर शिकंजा कसने पहुंचा था। इस दौरान बदमाशों ने दारोगा और सिपाही को बंधक बना लिया। तस्करों ने हमला करके सिपाही को मौत के घाट  उतार दिया जबकि दारोगा अर्धनग्न हालात में जंगल में मिले थे।

पुलिस पर हुए हमले का एक कनेक्शन मैनपुरी से भी जोड़ा जा रहा है। यहां मौके से एक बाइक पड़ी मिली है, जो बदमाशों की है। बता दें कि वर्ष 2016 में एटा के अलीगंज और मैनपुरी के कुछ क्षेत्रों में जहरीली शराब से 48 लोगों की जान चली गई थी। इसमें जहरीली शराब को मैनपुरी से ही अलीगंज और एटा के अन्य हिस्सों में भेजा गया था। इस घटना के बाद से लगातार शासन और प्रशासन की सख्ती से इस पर कुछ अंकुश तो लगा, लेकिन अभी भी चुपके-चुपके अवैध और कच्ची शराब का धंधा चलता रहता है। गाहे-बगाहे पुलिस दबिश देकर इसका खुलासा भी करती रहती है।

सूचना के बाद मौके पर भारी पुलिस बल पहुंची है। बदमाशों की तलाश की जा रही है। हालांकि पुलिस ने मुख्य आरोपी मोती के भाई को मुठभेड़ में ढेर कर दिया है। अब मुख्य आरोपी की तलाश जारी है।