खुलासा -चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने डोनाल्ड ट्रंप से दुबारा राष्ट्रपति बनाने में मदद मांगी थी - CHINA PRESIDENT XI JINPING

न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस किताब का नाम 'द रूम व्हेयर इट हैपन्ड' है और ये 23 जून को मार्केट में आने वाली है| जिस पर... [CHINA PRESIDENT XI JINPING]

खुलासा -चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने डोनाल्ड ट्रंप से दुबारा राष्ट्रपति बनाने में मदद मांगी थी - CHINA PRESIDENT XI JINPING
खुलासा -चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने डोनाल्ड ट्रंप से दुबारा राष्ट्रपति बनाने में मदद मांगी थी

खुलासा -चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने डोनाल्ड ट्रंप से दुबारा राष्ट्रपति बनाने में मदद मांगी थी - CHINA PRESIDENT XI JINPING

जहाँ एक तरफ भारत और चीन के बिच सीमा विवाद गंभीर रूप ले चुका है वही चीनी सरकार के कुछ छुपे हुए राज खुल  रहे  है | दरशल।,अमेरिका के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने अपनी नई किताब में आरोप लगाया है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को दुबारा राष्ट्रपति बनाने में  मदद की थी| ट्रंप चाहते थे कि चीन अमेरिकी किसानों से कृषि उत्पाद ख़रीदे जिससे उनकी छवि में सुधार हो| अब ट्रंप प्रशासन इस किताब को प्रकाशित होने से रोकने की कोशिश कर रहे हैं| अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट ने भी एक बयान जारी कर कहा है कि इस किताब में काफी सारी 'गोपनीय सूचनाएं' हैं| [CHINA PRESIDENT XI JINPING]

वही न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस किताब का नाम 'द रूम व्हेयर इट हैपन्ड' है और ये 23 जून को मार्केट में आने वाली है| जिस पर व्हाइट हाउस लगातार कह रहा है कि किताब में कई अहम गोपनीय सूचनाएं हैं जिन्हें सार्वजनिक करने का अधिकार बोल्टन के पास नहीं है| उधर बोल्टन का कहना है कि किताब में ऐसा कुछ नहीं है ये उनकी किताब रोकने के लिए साजिश रची जा रही है|  बताया जा रहा है कि इस किताब में ट्रंप के ख़िलाफ़ महाभियोग की प्रक्रिया से संबंधित भी कई सूचनाएं दी गई हैं|  ट्रंप पर आरोप था कि उन्होंने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ीलेंस्की पर डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति उम्मीदवार जो बाइडन और उनके बेटे हंटर बाइडन को लेकर भ्रष्टाचार के मामले में जांच के लिए दबाव डाला| 

इस किताब में कहा गया है कि पिछले साल जून महीने में जापान के ओसाका में जी20 समिट में राष्ट्रपति शी जिनपिंग और ट्रंप की मुलाक़ात हुई थी. बोल्टन कहा, 'ट्रंप को लगा कि शी जिनपिंग उनके डेमोक्रेटिक विरोधियों की बात कर रहे हैं|  ट्रंप ने आश्चर्यजनक रूप से बातचीत को 2020 के अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव की तरफ़ मोड़ दिया और चीन की आर्थिक क्षमता का हवाला देते हुए शी जिनपिंग से चुनाव में जीत दिलाने के लिए मदद करने को कहा| '
ट्रंप सिर्फ इतने पर ही नहीं रुके और उन्होंने किसानों की अहमियत पर ज़ोर देते हुए चीन से सोयोबीन और गेहूं की ख़रीदारी बढ़ाने को कहा ताकि चुनावी नतीजे उनके पक्ष में आए. जब शी जिनपिंग कारोबारी बातचीत में कृषि उत्पादों को प्राथमिकता देने पर सहमत हो गए तो ट्रंप ने उन्हें चीन के इतिहास का सबसे महान नेता क़रार दिया था| ' हालांकि अमरीकी ट्रेड रिप्रेजेंटेटिव रॉबर्ट लाइटहाइज़र ने बुधवार को बोल्टन के इन दावों को सिरे से नकार दिया है| 

खैर कहा जाता है की डोनाल्ड ट्रम्प को भी चुनाव जितने में रूस से मदद मिली थी अब क्या सच है और क्या नहीं वो इस किताब के पब्लिश होने पे साफ़ हो जायेगा |