वाराणसी के पर्यटन को नई ऊंचाई देने के लिए कवायद शुरू

बनारस अपने अल्हड़पन व बेबाक अंदाज और पर्यटन की वजह से पुरे विश्व में जाना जाता है सरकार भी पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास रत है और अब काशी के नए पर्यटन क्षेत्र से विदेशी सैलानियों को जोडऩे की कोशिश भी शुरू हो गई है। इससे काशी के पर्यटन उद्योग के राजस्व में वृद्धि तो होगी ही साथ ही साथ विदेशी सैलानियों का ठहराव भी बढ़ेगा। इसके लिए टूरिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन और पर्यटन विभाग मंथन कर रहा है।

वाराणसी के पर्यटन को नई ऊंचाई देने के लिए कवायद शुरू

बनारस अपने अल्हड़पन व बेबाक अंदाज और पर्यटन की वजह से पुरे विश्व में जाना जाता है सरकार भी पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास रत है  और अब काशी के नए पर्यटन क्षेत्र से विदेशी सैलानियों को जोडऩे की कोशिश भी शुरू हो गई है। इससे काशी के पर्यटन उद्योग के राजस्व में वृद्धि तो होगी ही साथ ही साथ विदेशी सैलानियों का ठहराव भी बढ़ेगा। इसके लिए टूरिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन और पर्यटन विभाग मंथन कर रहा है। योजना के तहत देश के बड़े टूर आपरेटरों को काशी आने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। उसके बाद यहां के टूर आपरेटर और पर्यटन विभाग की टीम उनको काशी के नए पर्यटन क्षेत्र में घूमाएगी जिससे वह विदेशी और देश के अन्य प्रदेशों के सैलानियों के बीच खाका खींच सकें।योजना के मुताबिक यदि नए पर्यटन क्षेत्र यात्रा पैकेज में जुड़ेगे तो काशी यात्रा के पैकेज का दिन भी बढ़ेगा। जो 2 से 3 दिन बढ़ा कर 5 दिन तक करने की बात चल रही है | बतादे जल्द ही पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी और पर्यटन अधिकारी और स्थानीय टूर आपरेटरों की बैठक मलदहिया स्थित एक होटल में होनी है जिसमे नए पर्यटन क्षेत्र को काशी यात्रा पैकेज में जोडऩे और देश के नामचीन ट्रैवेल कंपनियों के प्रतिनिधियों को काशी आमंत्रित करने के लिए साथ ही योजना को गति देने पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

आप को बतादे पिछले तीन वर्षों में काशी में कई नए पर्यटन क्षेत्र बढ़े हैं। इसमें ट्रेड फेसेलिटी सेंटर स्थित म्यूजियम विश्वनाथ धाम, लाइट एंड साउंड शो, मानमहल म्यूजियम,के साथ-साथ कई डेवलप विलेज शामिल हैं। अधिकारियो के मुताबिक योजना यदि मूर्त रूप लेती है तो काशी यात्रा के पैकेज में नए पर्यटन क्षेत्रों को जुडऩे का अवसर मिलेगा।