Indian Army Day 2021- आज देश मना रहा 73वां 'आर्मी डे',सेनाध्यक्ष ने कहा- नापाक इरादों को सफल नहीं होने देंगे

हर साल 15 जनवरी को इसे फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में मनाया जात है जिन्होंने इसी दिन 1949 में भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर की सेना की बागडोर संभाली थी।इंडियन आर्मी का मौजूद स्वरूप ब्रिटिश इंडियन आर्मी का वजन है जो कि कम से कम 125 साल पुरानी है।

Indian Army Day 2021- आज देश मना रहा 73वां 'आर्मी डे',सेनाध्यक्ष ने कहा- नापाक इरादों को सफल नहीं होने देंगे

हर साल 15 जनवरी को इसे फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में मनाया जात है जिन्होंने इसी दिन 1949 में भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर की सेना की बागडोर संभाली थी।इंडियन आर्मी का मौजूद स्वरूप ब्रिटिश इंडियन आर्मी का वजन है जो कि कम से कम 125 साल पुरानी है। इस तरह, दुनिया की सबसे पुरानी थल सेनाओं में शुमार होने के बावजूद इंडियन आर्मी मौजूदा वक्त में दुनिया की सबसे शक्तिशाली, सामर्थ्यवान और सक्षम कॉम्बैट फोर्स है। ऐसे कई फैक्टर्स हैं जो कि इंडियन आर्मी को दुनिया की किसी भी सेना से महान बनाते हैं और आज जब देश 73वां आर्मी डे सेलिब्रेट कर रहा है, ऐसे में इन्हीं कुछ रोचक और गौरवपूर्ण फैक्टर्स को हम आपसे साझा कर रहे हैं जिन्हें जानकर सही मायने में इंडियन आर्मी के मोटो 'सर्विस बिफोर सेल्फ' की भावना को आप बेहतर समझ सकेंगे| 

सेना दिवस के मौके पर भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष मनोज मुकुंद नरवणे ने चीन और पाकिस्तान को स्पष्ट संदेश दिया है कि वह हमारे धैर्य की परीक्षा ना लें| राष्ट्री राजधानी दिल्ली  स्थित करियप्पा परेड ग्राउंड में परेड का निरीक्षण और सैनिकों को उनकी वीरता के लिए सम्मानित करने के बाद नरवणे ने एक संबोधन में दोनों पड़ोसी देशों की नापाक हरकतों पर टिप्पणी की| 

सेनाध्यक्ष ने कहा कि बीता साल हमारे लिए बहुत चुनौतीपूर्ण रहा| उत्तरी सीमाओं पर चीन के साथ चल रहे तनाव से आप परिचित हैं| एकतरफा बदलाव की साजिशों का मुंहतोड़ जवाब दिया गया| उन्होंने कहा कि देश को विश्वास दिलाना चाहूंगा कि गलवान के शहीदों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगा| भारतीय सेना देश के सम्मान पर कोई आंच नहीं देगी| हम बातचीत और राजनीतिक प्रयासों से विवाद के समाधान के लिए प्रतिबद्ध हैं लेकिन कोई भी हमारे धैर्य की परीक्षा ना लें| 
पाकिस्तान का जिक्र करते हुए सेनाध्यक्ष ने कहा कि हम उनके नापाक इरादों को सफल नहीं होने देंगे| उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा पर भी दुश्मन के हर नापाक इरादे का करारा जवाब दिया जा रहा है| आंतकियों को प्रश्रय देने की अपनी आदत से पाकिस्तान लाचार है. सीमा पार 300-400 आतंकी घुसपैठ के इरादे से बैठे हैं. लेकिन हम उनके इरादे सफल नहीं होंने देंगे|