वेलेंटाइन-डे से पहले हुई प्रेमी-प्रेमिका की ऑनर कीलिंग,एक रात पहले ही की थी लव मैरेज

कल दुनिया भर में प्रेम का त्‍योहार यानि वेलेंटाइन-डे मनाया जाता है | लेकिन उस से पहले चौका देने वाला मामला सामने आया है जो की आपके होश उड़ा देगा जी हा खबर ये यूपी के संतकबीरनगर की है जहा प्रेमी-प्रेमिका को प्रेम विवाह की सजा के तौर पर पीट-पीटकर मार डालने और फिर शव जलाकर सबूत मिटा देने की कोशिश का सनसनीखेज मामला सामने आया है।

वेलेंटाइन-डे से पहले हुई प्रेमी-प्रेमिका की ऑनर कीलिंग,एक रात पहले ही की थी लव मैरेज

कल दुनिया भर में प्रेम का त्‍योहार यानि वेलेंटाइन-डे मनाया जाता है | लेकिन उस से पहले चौका देने वाला मामला सामने आया है जो की आपके होश उड़ा देगा जी हा खबर ये यूपी के संतकबीरनगर की है जहा प्रेमी-प्रेमिका को प्रेम विवाह की सजा के तौर पर पीट-पीटकर मार डालने और फिर शव जलाकर सबूत मिटा देने की कोशिश का सनसनीखेज मामला सामने आया है। शनिवार को जिले के महुली थाना क्षेत्र के बारीडीहा गांव के पास कुआनो नदी घाट पर प्रेमी-प्रेमिका के शवों को एक साथ जलाया जा रहा था। पुलिस के आने की सूचना पाकर परिवारीजन अधजले शव को छोड़कर फरार हो गए। पुलिस मामले को ऑनर किलिंग का मामला मान रही है। दोनों प्रेमी युगल धनघटा क्षेत्र के मूड़ाडीहा गांव के निवासी बताए जा रहे हैं। मौके पर बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्रित हो गए। सूचना मिलने पर धनघटा और महुली थाने के एसओ मौके पर पहुंच गए। सूचना के बाद एसपी ने मौके पर पहुंचकर जानकारी ली। 
 
इंस्पेक्टर रवीन्द्र कुमार गौतम के अनुसार धनघटा थाना क्षेत्र के मूड़ाडीहा गांव के सागर और कंचन के बीच काफी दिनों से प्रेम सम्‍बन्‍ध चल रहा था। शुक्रवार की शाम कंचन अपने प्रेमी के घर पहुंच गई। प्रेमी ने कंचन को सिंदूर लगाकर प्रतीकात्मक विवाह कर लिया। ग्रामीणों के अनुसार प्रेम विवाह की खबर मिलने पर रात में ही प्रेमी-प्रेमिका को परिवारीजनों ने पीट-पीटकर मार डाला। हालांकि कुछ ग्रामीण जहर खा लेने की वजह से मौत होने की बात भी कह रहे हैं। बताया जा रहा है कि शनिवार भोर में परिवारीजन शवों को लेकर महुली क्षेत्र के बारीडीहा गांव के पास जंगल में स्थित कुआनो नदी के घाट पर पहुंच गए। वे दोनों शवों को जलाने लगे। सूचना पर बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर जुट गए। 


इसी बीच किसी ने पुलिस को भी खबर कर दी। इस पर धनघटा थाने के साथ और महुली एसओ प्रदीप कुमार सिंह और एसआई राम प्रवेश यादव फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। लेकिन परिवारवालों को पुलिस के आने की भनक लग गई और वे अधजला शव छोड़कर वहां से फरार हो गए। पुलिस ने चिता पर जल रहे दोनों शव को बाहर निकवाकर कस्टडी में ले लिया। लेकिन तब तक शव करीब 90 प्रतिशत तक जल चुके थे। पुलिस के अनुसार इस मामले में गांव के प्रधान प्रतिनिधि के भी शामिल होने की बात सामने आ रही है। चिता जलने के स्‍थान से थोड़ी दूरी पर पुलिस को कुछ चप्‍पलें और अंग वस्‍त्र मिले हैं। धनघटा पुलिस ने दोनों शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। एसपी डॉ.कौस्‍तुभ और सीओ अम्बरीष भदौरिया ने भी मौके पर पहुंचकर जायजा लिया| और साथ ही एसपी डॉ.कौस्‍तुभ ने कहा है कि इस मामले में पुलिस दोषियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई करेगी। उन्‍होंने आरोपितों की जल्‍द गिरफ्तारी का निर्देश दिया है |