हिस्ट्रीशीटर नितेश के हत्यारोपी डी-11 गैंग के शूटर गिरधारी का हुवा एनकाउंटर

वाराणसी के 30 सितंबर 2019 को सदर तहसील परिसर में दिनदहाड़े अंधाधुंध फायरिंग कर सारनाथ निवासी नितेश सिंह बबलू की हत्या के मामले में वांछित डी-11 गैंग का बदमाश गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ कन्हैया उर्फ डॉक्टर का आज एनकाउंटर कर दिया गया बतादे नई दिल्ली की तिहाड़ जेल से पुलिस कस्टडी रिमांड पर लाया गया डी-11 गैंग का बदमाश गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ कन्हैया उर्फ डॉक्टर सोमवार तड़के लखनऊ के विभूतिखंड थाना क्षेत्र में मुठभेड़ में मारा गया। बतादे नितेश की हत्या में मुख्य आरोपित के तौर पर चोलापुर के लखनपुर गांव निवासी गिरधारी का नाम सामने आने पर उसकी तलाश में पुलिस लग गई थी।

हिस्ट्रीशीटर नितेश के हत्यारोपी डी-11 गैंग के शूटर गिरधारी का हुवा एनकाउंटर

वाराणसी के 30 सितंबर 2019 को सदर तहसील परिसर में दिनदहाड़े अंधाधुंध फायरिंग कर सारनाथ निवासी नितेश सिंह बबलू की हत्या के मामले में वांछित डी-11 गैंग का बदमाश गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ कन्हैया उर्फ डॉक्टर का आज एनकाउंटर कर दिया गया बतादे नई दिल्ली की तिहाड़ जेल से पुलिस कस्टडी रिमांड पर लाया गया डी-11 गैंग का बदमाश गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ कन्हैया उर्फ डॉक्टर सोमवार तड़के लखनऊ के विभूतिखंड थाना क्षेत्र में मुठभेड़ में मारा गया। बतादे नितेश की हत्या में मुख्य आरोपित के तौर पर चोलापुर के लखनपुर गांव निवासी गिरधारी का नाम सामने आने पर उसकी तलाश में पुलिस लग गई थी।

दरसअल 2019  में 30 सितंबर को सदर तहसील के पास  दिनदहाड़े अंधाधुंध फायरिंग कर नितेश सिंह बबलू की हत्या कर दी गई थी और इस मामले में नितेश की हत्या में चोलापुर थाना क्षेत्र के लखनपुर निवासी कन्हैया विश्वकर्मा उर्फ गिरधारी उर्फ डॉक्टर के अलावा एक अज्ञात बदमाश शामिल होने की सुचना मिली थी । गिरधारी का नाम हत्याकांड में सामने आने पर उसके पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था।
सूत्रों के अनुसार गिरधारी लंबे अरसे से सफेदपोश नेताओं के संरक्षण में रहता आया है और कहा जाता है वाराणसी, आजमगढ़, चंदौली और जौनपुर के कुछ बड़े नेताओं का चहेता था|

बतादे बनारस पुलिस नितेश हत्याकांड में कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए दो बार न्यायालय से वारंट बी जारी कराया था इसी सम्बन्ध में वाराणसी पुलिस कल लखनऊ भी गई थी | लेकिन पूछताछ के बाद आज सुबह हिरासत से भागने के दौरान गिरधारी का एनकाउंटर हो गया
पुलिस बताया कि तड़के उसने पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की थी। इस दौरान उसने पुलिस पर गोली चलाई। इसमें जवाबी फायरिंग में सहारा अस्पताल के पास उसे गोली लगी और उसकी मौत हो गई।
वाराणसी में गिरधारी के खिलाफ कई मुकदमे दर्ज थे|