SC ने कहा- तीसरी लहर में बच्चों के प्रभावित होने की आशंका, उनके वैक्सीनेशन के बारे में सोचे सरकार

कोरोना संकट के बीच देश भर में ऑक्सीजन संकट और वैक्सीनेशन को लेकर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, चिंता की बात है कि तीसरी लहर की बात वैज्ञानिक कह रहे हैं। उस में बच्चों के प्रभावित होने की आशंका। टीकाकरण अभियान में बच्चों के लिए सोचा जाना चाहिए।केंद्र सरकार ने राज्यों को ऑक्सीजन सप्लाई करने का प्लान सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश किया।

SC ने कहा- तीसरी लहर में बच्चों के प्रभावित होने की आशंका, उनके वैक्सीनेशन के बारे में सोचे सरकार

नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच देश भर में ऑक्सीजन संकट और वैक्सीनेशन को लेकर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, चिंता की बात है कि तीसरी लहर की बात वैज्ञानिक कह रहे हैं। उस में बच्चों के प्रभावित होने की आशंका। टीकाकरण अभियान में बच्चों के लिए सोचा जाना चाहिए।केंद्र सरकार ने राज्यों को ऑक्सीजन सप्लाई करने का प्लान सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश किया। 

 

 

आपको बता दें कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी जिसे कोई नहीं रोक सकता है | हालांकि यह कब आएगी और यह कैसे एक्सेप्ट करेगी अभी कहना बहुत मुश्किल है|  लेकिन इसके लिए तैयार रहना होगा सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने यह चेतावनी दी है | राघवन  ने कहा कि कोरोनावायरस सामने आ रहे हैं उन्होंने संक्रमण की रफ्तार बढ़ाई है और उनके स्टैंड से निपटने के लिए व्यक्ति को भी अपडेट करने की जरूरत होगी राघवन के अनुसार भारत से दुनिया भर में कोरोना के नए वैरीअंट सामने आएंगे तमाम वैज्ञानिक इन अलग-अलग किस्मों का मुकाबला करने की तैयारी कर रहे हैं| 

 

 

 केंद्र सरकार ने राज्यों को ऑक्सीजन सप्लाई करने का प्लान सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश किया है केंद्र की ओर से सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन का पर्याप्त स्टॉक है मेहता ने कहा है कि राजस्थान जम्मू कश्मीर हिमाचल प्रदेश जैसे राज्य में ज्यादा ऑक्सीजन सप्लाई की मांग कर रहे हैं उन्होंने कहा कल दिल्ली को 730 मेट्रिक टन ऑक्सीजन मिला दिल्ली के पास अब उसे लोड नहीं कर पा रहा आज भी सप्लाई आ रही है अगर हम कुछ ज्यादा सप्लाई देते रहेंगे तो दूसरे को दिक्कत हो सकती है|