असम में एक बार फिर आए भूकंप के झटका, झटके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.8 दर्ज की गई

असम के मोरीगांव में शुक्रवार यानी आज सुबह 6 बजकर 13 मिनट पर भूकंप के झटके आए हैं. इस झटके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.8 दर्ज की गई है| झटके के दौरान दहशत में लोग घरों से बाहर निकल आए और अफरातफरी का माहौल बन गया| हालांकि इस झटके से किसी भी प्रकार के नुकसान की सूचना नहीं मिली है|

असम में एक बार फिर आए भूकंप  के झटका, झटके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.8 दर्ज की गई


गुवाहाटी-असम के मोरीगांव में शुक्रवार यानी आज सुबह 6 बजकर 13 मिनट पर भूकंप के झटके आए हैं. इस झटके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.8 दर्ज की गई है| झटके के दौरान दहशत में लोग घरों से बाहर निकल आए और अफरातफरी का माहौल बन गया| हालांकि इस झटके से किसी भी प्रकार के नुकसान की सूचना नहीं मिली है|  बता दें कि इससे पहले कल यानी 6 मई को असम के तेजपुर में सुबह भूकंप आया था|  रिक्टर पैमाने (Richter Scale) पर भूकंप की तीव्रता 3.6 दर्ज की गई थी| 

 

 

गौरतलब है कि बीते कुछ दिनों में असम में लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं| 29 अप्रैल को सूबे के सोनितपुर में झटके महसूस किए गए थें. रिक्टर पैमाने पर इस झटके की तीव्रता 3.6 मापी गई थी| वहीं उससे एक दिन पहले 28 अप्रैल को भी सोनितपुर में रिक्टर पैमाने पर 6.4 तीव्रता के साथ भूकंप के झटके आए थे. बता दें कि पृथ्वी के अंदर 7 प्लेट्स हैं, जो लगातार घूमती रहती हैं. कभी कभी ये प्लेट्स आपस में टकरा जाती हैं और बार-बार टकराने की वजह से से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं| जब अधिक दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं और नीचे की ऊर्जा बाहर आने का रास्ता खोजती हैं और डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप के झटके आते हैं|

 

 


भारत में भूकंप पृथ्वी के अंदर की परतों में होने वाली भोगौलिक हलचल के आधार पर कुछ जोन निर्धारित किए गए हैं और कुछ जगह यह अधिक होती है तो कुछ जगह कम. इन संभावनाओं के आधार पर भारत को 5 जोन में विभाजित किया गया है, जो बताता है कि भारत में कहां सबसे अधिक भूकंप आने का खतरा रहता है| इसमें जोन-5 में सबसे अधिक भूकंप आने की आशंका रहती है और 4 में उससे कम, 3 उससे कम होती है|