Mission Shakti ||| दुष्कर्मियों के खिलाफ सख्त हुई योगी सरकार, 2 दिनों में 14 को फांसी, 20 को उम्रकैद

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (CM Yogi Adityanath) ने नवरात्रे में शुरू किया अपना खास अभियान 'मिशन शक्ति' (Mission Shakti) के तहत दो दिनों में 14 दुष्कर्मियों को फांसी की सजा सुनाई है। जबकि 20 को उम्रकैद सुनाई गई है। 'मिशन शक्ति' यूपी में बढ़ते महिला अपराध को कम करने की एक मुहीम है जिसे योगी सरकार ने हाथरस केस के बाद शुरू किया है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (CM Yogi Adityanath) ने नवरात्रे में शुरू किया अपना खास अभियान 'मिशन शक्ति' (Mission Shakti) के तहत दो दिनों में 14 दुष्कर्मियों को फांसी की सजा सुनाई है। जबकि 20 को उम्रकैद सुनाई गई है। 'मिशन शक्ति' यूपी में बढ़ते महिला अपराध को कम करने की एक मुहीम है जिसे योगी सरकार ने हाथरस केस के बाद शुरू किया है। यूपी में शुरू हुए अभियान मिशन शक्ति के अंतर्गत योगी सरकार ने दो दिन के अंदर 14 अपराधियों को फांसी की सजा और 20 अभियुक्तों को आजीवन कारावास की सजा दिलाई गई है। सीएम निर्देश के बाद अभियोजन निदेशालय ने जल्दबाज़ी दिखाते हुए अभियुक्तों को सजा दिलवाने का काम शुरू कर दिया है। हालांकि, सीएम योगी ने इसे कम समय में जल्द ही पूरा कर लेने की बात कही है। इस बारे में अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि राज्य में अगर अपराधियों को सजा दी जाए तो निश्चित ही क़ानून का राज स्थापित किया जा सकता है। इसी कड़ी में अभियोजन निदेशालय ने सामने आए मामलों में से कई को सजा दिलाई है। जिसमें 11 मामलों में 14 अभियुक्तों को फांसी की सजा, 5 मामलों में 11 अभियुक्तों को आजीवन कारावास और 8 मामलों में 22 अभियुक्तों को कारावास एवं जुर्माने की सजा सुनाई गई है। जबकि निर्देशालय ने महिला एवं बाल अपराधों में लिप्त 88 मामलों में 117 अभियुक्तों की जमानतें खारिज करा दीं। साथ ही दो दिनों में 101 गुंडों को जिले से बाहर कर दिया गया। बता दें कि इस मिशन का उद्देश्य राज्य में महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। मिशन के तहत टीम प्रदेश में मनचलों को चिन्हित कर उनकी धरपकड़ करेगी। इसके अलावा योगी सरकार राज्य में शांति व्यवस्था भंग करने वाले उपद्रवियों के पोस्टर चौराहों पर लगाएगी। इस बारे में सीएम योगी ने कहा था कि 'राज्य के 1535 पुलिस स्टेशन में महिला शिकायतकर्ताओं के लिए अलग से रूम होगा जिसे महिला हेल्पडेस्क बनाया जाएगा। महिला पुलिस कॉन्स्टेबल मौजूद रहेंगी। यहां शिकायतों पर त्वरित रूप से कार्रवाई होगी।' राज्य में यह अभियान अलग-अलग चरण में कुल 180 दिनों तक चलेगा। इस दौरान महिलाओं एवं बालिकाओं को आत्मनिर्भर बनने का प्रशिक्षण, सुरक्षा एवं सम्मान के प्रति जागरूक करने का काम किया जाएगा। अभियान के पहले चरण में जागरूकता पर विशेष जोर दिया जाएगा,जबकि दूसरे चरण में मिशन शक्ति के क्रियान्वयन की दिशा में जोर दिया जाएगा।