दिल्ली में रोज़ाना 18 हज़ार कोरोना टेस्ट की तैयारी, रैपिड एंटीजन टेस्ट से दिल्ली में Corona पर काबू

पिछले 6 महीने से पूरी दुनिया कोरोना वायरस के कहर से जूझ रहा है।इस विश्वव्यापी महामारी से निपटने के लिए विश्व के हज़ारों लैब में जद्दोजहद चल रही है। हालांकि अब तक कोई निश्चित इलाज सामने नहीं आया है।वहीं देश में कोरोना टेस्टिंग किट को लेकर भी काफी सारे नए खोज किये जा रहे है।देश की राजधानी दिल्ली में संक्रमण काबू के बाहर होती नज़ारा आ रही है लिहाजा दिल्ली में सरकार तेज़ी से नीतियों को बदल कर स्थिति पर काबू पाने के प्रयास में जुटी है।बता दे राजधानी दिल्ली में नई टेस्टिंग तकनीक 'रैपिड एंटीजन टेस्ट' के इस्तेमाल को अनुमति दे दी गयी है |

पिछले 6 महीने से पूरी दुनिया कोरोना वायरस के कहर से जूझ रहा है।इस विश्वव्यापी महामारी से निपटने के लिए विश्व के हज़ारों लैब में जद्दोजहद चल रही है। हालांकि अब तक कोई निश्चित इलाज सामने नहीं आया है।वहीं देश में कोरोना टेस्टिंग किट को लेकर भी काफी सारे नए खोज किये जा रहे है।देश की राजधानी दिल्ली में संक्रमण काबू के बाहर होती नज़ारा आ रही है लिहाजा दिल्ली में सरकार तेज़ी से नीतियों को बदल कर स्थिति पर काबू पाने के प्रयास में जुटी है।बता दे राजधानी दिल्ली में नई टेस्टिंग तकनीक 'रैपिड एंटीजन टेस्ट' के इस्तेमाल को अनुमति दे दी गयी है और गुरुवार से इस नई तकनीक के ज़रिये कोरोना की टेस्टिंग शुरू भी हो गयी है। कोरोना के जंग में काफी मदददगार साबित होने वाली यह किट कोरोना टेस्टिंग प्रक्रिया को तेज़ करती है यानि इस किट के जरिये कोरोना के टेस्ट की रिपोर्ट 20-30 मिनट में सामने आ जाएगा।जिससे कोरोना पोसिटिव् व्यक्ति को जल्द से जल्द क्वारंटाइन करके उसका इलाज शुरू हो सकेगा और इस संक्रमण को आगे फैलने से रोकने में मदद होगी।लेकिन फिलहाल इस किट का इस्तेमाल कंटेनमेंट जोन,अस्पताल या क्वॉरेंटाइन सेंटर में करने की इजाजत है।गुरुवार को इस किट का इस्तेमाल दक्षिण पश्चिम दिल्ली के द्वारका सेक्टर 4 के रत्नाकर अपार्टमेंट के लोगो की टेस्टिंग के लिए किया गया।साथ ही इस तकनीक को सभी मौजूदा 247 कंटेनमेंट जोन में इस्तेमाल किया जाएगा। इसके साथ ही दिल्ली में 20 जून से रोजाना करीब 18 हजार कोरोना टेस्ट कराने की योजना है जिसके मद्देनज़र दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण इस तकनीक के जरिए किए जाने वाले टेस्ट के लिए पूरा शेड्यूल तैयार कर रहा है।शेड्यूल में कोरोना के कब,कहां, कितने टेस्ट कराए जाने है इसका का लक्ष्य तय किया जा रहा है।