कोरोना वायरस से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहां - ZNDM News

कोरोना वायरस  से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहां - ZNDM News
कोरोना वायरस से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहां

कोरोना वायरस  से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहां - विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा जारी किये गए  गाइडलाईन 

कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर लोगों के मन में कई सवाल और  भरम है . जिन्हें  दूर करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी समय-समय पर गाइडलाईन जारी की है. कई लोगों ऐसे हैं, जो सोशल मीडिया और इंटरनेट पे फैले अफवाओं में पड़े है।  ऐसे में जरूरी है इससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातों के बारे जानकारी होना ताकि किसी भी तरह की गलतफहमी से बचा जा सके. आज हम आपको कोरोना वायरस जुड़े  ऐसी ही कुछ जरूरी बातें बताने जा रहे हैं.

 क्या बदलते मौसम से कोरोना वायरस चला जायेगा ?

मौसम का कोरोना वायरस से कोई लेना देना नहीं है. ये लोगों का मिथ है कि मौसम नए कोरोना वायरस या अन्य बीमारियों को मार सकता है. लोगों के शरीर का नार्मल टेम्प्रेचर लगभग 36.5°C से 37°C तक रहता है. इसलिए अपनी सफाई पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देना जरूरी है.

क्या मास्क हमे कोरोना वायरस से बचा सकता है?

कोई भी सर्जिकल मास्क इस तरह डिजाइन नहीं किया गया है कि वह वायरल पार्टिकल्स को ब्लॉक कर सके. लेकिन ये इंफेक्टेड व्यक्ति को वायरस फैलाने से रोकने में मदद कर सकता है.

क्या गरम पानी से नहाने पर कोरोना वायरस नहीं होगा ?

यह ऐसा संक्रमण है जिसे गर्म पानी से नहीं रोका जा सकता. नहाने के लिए पानी के टेम्प्रेचर की परवाह किए बिना हाइजिन का ध्यान रखें. दरअसल, बेहद गर्म पानी से नहाना हानिकारक हो सकता है, क्योंकि यह आपको जला सकता है.

क्या मच्छरों और मखियों से फैलता है कोरोना वायरस ?

अभी तक इस बात का कोई सबूत नहीं है कि कोरोनो वायरस मच्छरों या मखियो से भी फैल सकता है. यह एक हवा में फैलने वाला वायरस है जो सांस द्वारा फैलता है. जब एक संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है तो पानी की बिंदु हवा में फैलते हैं जिससे संक्रमण दूसरे तक पहुंचता है.

क्या सेनिटाइजर साबुन से ज्यादा अच्छा है कोरोना को रोकने लिए ? 

सेनिटाइजर की जगह साबुन एक अच्छा विकल्प है क्योंकि हाथ धोने के दौरान ना केवल वायरस मर जाता है बल्कि वह धुल भी जाता है. खासतौर पर जब आपके हाथों पर डस्ट लगी हो तो हैंड-सेनिटाइजर की जगह साबुन का उपयोग ही बेहतर रहता है.

 क्या विटामिन c लेने से काम होगा कोरोना होने का खतरा ?

 विटामिन-C इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग बनाता है साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है. लेकिन अभी तक इस बात का कोई प्रमाण नहीं मिला है कि विटामिन-C से कम होता है या ख़त्म होता है.

 क्या गौमूत्र कोरोना को खत्म कर सकता है ?

भारतीय वायरॉलजिकल सोसायटी के हिसाब से गौमूत्र को ऐंटिवायरल माना जाता है लेकिन ये कोरोना के प्रभाव को कम करता है अभी तक इसके कोई ठोस प्रमाण नहीं मिले हैं.

 क्या कोरोना का संक्रमण ठीक होने पर दोबारा भी हो सकता है? 

फिलहाल ये पता नहीं चल सका है, लेकिन ठीक हुए लोगों में दोबारा संक्रमण के कई मामले आए हैं. लेकिन ज्यादातर वैज्ञानिकों का कहना है कि ऐसा होने का बहुत डर रहता है. मरीज के रिकवर होने पर उसकी दोबारा जांच होती है, तब नाक और गले से सैंपल लेते हैं, जबकि हो सकता है कि वायरस कहीं और छिपा हो. ऐसे में रिजल्ट निगेटिव आ जाता है. पूरी तरह से रिकवर हुए लोगों के शरीर में एंटीबॉडी बन जाती है लेकिन ये पता नहीं चल सका है कि एंटीबॉडी कब तक सुरक्षा कर सकती है. कई बार एंटीबॉडीज कई विषाणुओं के आगे कमजोर हो जाती हैं. जैसा कि फ्लू के वायरस के साथ होता है जो हर साल हमला कर पाता है. कई लैब कोशिश कर रहे हैं कि इनकी जांच के लिए ब्लड टेस्ट तैयार हो सके ताकि पता चले कि असल में कितने लोग बीमार हुए और क्या वे कोरोना के लिए इम्यून हो चुके हैं.