कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश सबसे अच्छा आकड़े

मई की शुरुआत कोरोना वायरस को लेकर बहुत ख़राब रही है। पिछले 6 दिनों में 10 हजार से भी ज्यादा मामले कोरोना वायरस चुके है।

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच उत्तर प्रदेश सबसे अच्छा आकड़े

 

उस बीच खुशी की ख़बर ये है की उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामलो बड़े है पर उससे ठीक होने वालो की संख्या भी बहुत तेजी से बड़ रही है जो एक राहत देने वाली बात है। 

कोरोना वायरस के संक्रमण से उत्तर प्रदेश में पॉजिटिव तथा मृतकों की संख्या के अनुपात में स्वस्थ होने वाले अधिक हैं। उत्तर प्रदेश में इसके कहर से उबरने वालों के आंकड़े का प्रतिशत पुरे देश में सबसे अधिक है। प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव होने वालों का प्रतिशत 37 फीसद से अधिक है। जो कि राष्ट्रीय औसत 28.7 फीसद से कहीं अधिक है।

फ़िलहाल उत्तर प्रदेश में कोरोना के 65 फीसदी मरीज आगरा, कानपुर व लखनऊ समेत नौ जिलों में है। बाकी 53 जिलों में 35 फीसद मरीज है। वही स्वस्थ होने वाले मरीज 37 फीसद से अधिक हैं जो कि राष्ट्रीय स्तर से ज्यादा है। वही उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस से मरने वालो की संख्या 64 है।

प्रदेश में बीते दो दिनों से लगातार नए मरीजों की तुलना में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा है। अब तक कुल 1130 मरीज डिस्चार्ज होकर अस्पताल से घर जा चुके हैं। 

उत्तर प्रदेश में अभी भी कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों में सबसे अधिक युवा हैं। कुल 2998 मरीजों में से 75.78 प्रतिशत पुरुष हैं और 24.22 फीसद महिलाएं। अब अगर उम्र के हिसाब देखा जाए तो 21 वर्ष से लेकर 40 वर्ष तक की आयु वाले 48.23 प्रतिशत लोग संक्रमित हैं। इसके साथ ही 41 वर्ष से लेकर 60 वर्ष की आयु वाले 26.54 फीसद लोग बीमार हैं। वही सबसे कम 7.44 फीसद बुजुर्ग और नवजात शिशु से लेकर 20 वर्ष तक की आयु वाले 17.78 प्रतिशत कोरोना की गिरफ्त में हैं।

देश के सबसे अधिक जनसंख्या वाले राज्य उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण इतना भयावाह रूप नहीं ले सका। यहां पर लॉकडाउन का काफी सख्ती से पालन कराया गया और सीएम योगी आदित्यनाथ ने लगातार अपनी टीम-11 के अफसरों तथा जिलों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की और परिस्थितियों के मुताबिक योजना बना कर उसे लागू किया।