कोरोना से बचाव के जंग में कार्यरत सुरक्षाकर्मियों पर हुए हमलें |

खौफनाक कोरोना वायरस से पूरी दुनिया दहशत में है।बता दें कि दुनिया भर में अब तक 9 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और हजारों की संख्या में रोज़ लोगों की जाने जा रही है।वहीं भारत में भी करोना मरीजो की संख्या 1900 से अधिक पहुंच गई हैं और 52 लोगों की मौत हो चुकी है।लेकिन इस खौफनाक स्थिति में भी डॉक्टर,नर्स और पुलिस प्रशासन हमारे और मौत के बीच कवच की भूमिका निभा रही है।

खौफनाक कोरोना वायरस से पूरी दुनिया दहशत में है।बता दें कि दुनिया भर में अब तक 9 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और हजारों की संख्या में रोज़ लोगों की जाने जा रही है।वहीं भारत में भी करोना मरीजो की संख्या 1900 से अधिक पहुंच गई हैं और 52 लोगों की मौत हो चुकी है।लेकिन इस खौफनाक स्थिति में भी डॉक्टर,नर्स और पुलिस प्रशासन हमारे और मौत के बीच कवच की भूमिका निभा रही है।कोरोना के इस बढ़ते संक्रमण में अपनी जान ताक पर रख कर वे लोग दिन रात पूरी ईमानदारी से हमारी सुरक्षा में लगे हैं।यह वाकई सराहनीय है।इनके साहस के लिए हम सबको इनका आभार व्यक्त करना चाहिए लेकिन कुछ लोग अपनी मंद बुद्धि का प्रदर्शन करते हुए अपनी हरकतों से देश के सभी नागरिक को शर्मिंदा कर रहे हैं। बता दे कि देश के विभिन्न जगहों से कुछ ऐसी घटनाएं सामने आई हैं जो आप को शर्मसार कर देंगी। जी हां हाल ही में कुछ ऐसे लोग सामने आए हैं जिन्होंने कोरोना के बचाव में लगे डॉक्टर,नर्स और खासकर पुलिसकर्मियों के साथ दुर्व्यवहार किया और इतना ही नहीं बल्कि आत्मघाती हमले भी हुए। कर्नाटक के हेगड़े नगर में सर्दी जुकाम से ग्रसित लोगों का डाटा कलेक्शन करने पहुंचे नर्स आशा को स्थानीय लोगों ने जानकारी देने से न सिर्फ इनकार किया बल्कि हमला भी किया हमला किया।जहां मामला बिगड़ने पर पुलिस प्रशासन ने पहुंचकर माहौल पर काबू पाया ।इसके बाद दूसरा मामला है उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर का जहां लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले कुछ लोगो को रोकने के लिए पहुंचे पुलिसकर्मियों पर मन बड़ों ने पत्थर,रॉड और लाठियों से बुरी तरह हमला किया। फिर मौके पर पुलिस फोर्स को तैनात कर सुरक्षाकर्मियों को बचाया गया और उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचाया गया।जानकारी के अनुसार हमले में घायल हुए दो पुलिसकर्मियों की हालत गंभीर है। पर इन सब से भी ज्यादा गंभीर मामला राजस्थान के जयपुर स्थित रामगंज क्षेत्र का है जहां स्थानीय लोग मेडिकल टीम के साथ लगातार बदसलूकी करते नजर आ रहे है।बता दे यहाँ हाल ही में रामगंज के हीदा इलाके में दो युवकों ने कंपाउंडर पर किसी भारी चीज से खतरनाक हमला किया। जिसकी शिकायत क्षत्रिय थेन में किया गया। इसके बाद रामगंज क्षेत्र में ही जगन्नाथ शाह के रास्ते से गुज़र रहे पूरी मेडिकल टीम पर हमले का मामला भी सामने आया। ऐसे में इस विकट स्थिति में सुरक्षाकर्मियों डॉक्टर और नर्स आदि के लिए कोरोना से बचाव के दिशा में काम कर पाना एक बहुत बड़ी चुनौती होती जा रही है।