कम्युनिस्ट पार्टी ने कृषि कानून पर उठाया सवाल सरकार से माँगा जवाब

suman lata 16:33 (34 minutes ago) to me किसान कानून को ले कर लगातार पूरे देश में इस कानून का बहिष्कार हो रहा है वाराणसी में भी कुछ प्रमुख पार्टियों के द्वारा लगातार इस कानून के सन्दर्भ में प्रदर्शन व बहिष्कार किया गया | किसानो के लिए लाए गए इस नए कानून को किसानो के द्वारा काला कानून का दर्जा दे दिया गया है |

कम्युनिस्ट पार्टी ने कृषि कानून पर उठाया सवाल सरकार से माँगा जवाब

किसान कानून को ले कर लगातार पूरे देश में इस कानून का बहिष्कार  हो रहा है वाराणसी में भी कुछ प्रमुख पार्टियों के द्वारा लगातार इस कानून के सन्दर्भ में प्रदर्शन व बहिष्कार किया गया | किसानो के लिए लाए गए इस नए कानून को किसानो के द्वारा काला कानून का दर्जा दे दिया गया है | इसी क्रम में हम आपको बता दें कि वाराणसी के शास्त्रीघाट पर आज कम्युनिस्ट पार्टी के द्वारा एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया जिसमे  वाराणसी में किसानों के उत्पाद के लाभकारी दाम जबरन भूमि अधिग्रहण आवारा पशुओं की समस्याएं बिजली पानी एवं कानून व्यवस्था आदि मुद्दों पर आज शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया |

 इस दौरान इस पार्टी के कार्यकर्ताओ का कहना था की जनता के मुद्दों पर आवाज को दबाने के लिए वाराणसी जिला एवं पुलिस प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है | कार्यकर्ताओं का कहना था कि भारत  की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी एवं राजनीतिक कार्यकर्ताओं को आरोपित किया जा रहा है और उन्हें भयभीत किया जा रहा है साथ ही भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के जिला सचिव नंदलाल पटेल जिला कमेटी सदस्य शिवनाथ यादव अहमद सहित कई लोगों को आपराधिक संगठन बनाने का आरोप लगाकर प्रबंधित किया जा रहा है|

साथ ही कार्यकर्ताओ का कहना था की सभी जानते हैं कि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी एक राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त पार्टी है और संघर्ष साफ-सुथरी छवि के लिए देश भर में जाना जाता है किसान सभा के जिला सचिव रामजी  सहित कई पार्टी के सदस्य पर गुंडा एक्ट की नोटिस दी गई है बड़ा गांव थाने की पुलिस ने किसान सभा के नेताओं को भी बाहर नहीं निकलने दिया जो की मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है इस दौरान कार्यकर्ताओ का कहना था की  किसान आंदोलन का समर्थन करने वाले किसानों एवं किसान संगठनों के नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस प्रशासन के द्वारा डराया धमकाया जा रहा है और किसान आंदोलन का समर्थन न करने की हिदायत दी जा रही है| इन्ही सब मुद्दे को ले कर आज कम्युनिस्ट पार्टी ने विरोध प्रदर्शन किया और अपनी मांग रखी है |