Uttar Pradesh : उत्तर प्रदेश में फिर से बच्चे मोबाइल छोड़ बस्ता उठा कर जाएंगे स्कूल

साल 2020 पूरी दुनिया में याद रखा जाएंगे , इसके अलग अलग देशो में अलग अलग कारण है पर जो पूरी दुनिया याद रखेंगी वो कोरोना वायरस है , कोरोना वायरस ने कई महीनो तक पूरी दुनिया को रोक सा दिया था , सरल शब्दों में कहा जाए तो जो व्यक्ति जहा था वही रहने को मजबूर हुआ या फ़िर किसी तरह घर गया। कोरोना के चलते कंपनी , कारख़ाने , मॉल , पार्क , स्कूल सब बंद कर दिए गए थे , और अपने अपने घरो में रहने के लिए बोला गया था। वही हाल भारत का भी था 19 मार्च 2020 को जनता कर्फु के साथ स्कुल भी बंद कर दिए गए थे,साथ ही बच्चो को ऑनलाइन पढ़ाया जा रहा था , क़रीब अब 10 महीनो के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार फिर से स्कूल खोलने पर विचार कर रही है।

Uttar Pradesh : उत्तर प्रदेश में फिर से बच्चे मोबाइल छोड़ बस्ता उठा कर जाएंगे स्कूल

साल 2020 पूरी दुनिया में याद रखा जाएंगे , इसके अलग अलग देशो में अलग अलग कारण है पर जो पूरी दुनिया याद रखेंगी वो कोरोना वायरस है , कोरोना वायरस ने कई महीनो तक पूरी दुनिया को रोक सा दिया था , सरल शब्दों में कहा जाए तो जो व्यक्ति जहा था वही रहने को मजबूर हुआ या फ़िर किसी तरह घर गया। कोरोना के चलते कंपनी , कारख़ाने , मॉल , पार्क , स्कूल सब बंद कर दिए गए थे , और अपने अपने घरो में रहने के लिए बोला गया था। वही हाल भारत का भी था 19 मार्च 2020 को जनता कर्फु के साथ स्कुल भी बंद कर दिए गए थे,साथ ही बच्चो को ऑनलाइन पढ़ाया जा रहा था , क़रीब अब 10 महीनो के बाद अब उत्तर प्रदेश सरकार फिर से स्कूल खोलने पर विचार कर रही है।  
 
कोरोना से जारी लड़ाई, इसके कम होते खतरे और टीकाकरण के बीच देशभर में एहतियात के बीच स्थिति लगातार सामान्य होती जा रही है। इस बीच उत्तर प्रदेश से बड़ी खबर है। राज्य में स्कूलों को फिर से खोलने की कवायद तेज हो गई है। जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज राज्य में स्कूलों को दोबारा खोलने को हरी झंडी दे सकते हैं। कोरोना के कारण करीब पिछले एक साल स्कूल बंद हैं।

गौरतलब है कि पिछले दिनों ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शिक्षा विभाग को स्कूल खोलने का निर्देश दिया था। बीते दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 6 से 8 क्लास तक की पढ़ाई फिर शुरू कराने पर विचार करने को कहा था।

साथ ही सीएम योगी ने पढ़ाई शुरू करने से पहले अधिकारियों को कोरोना संक्रमण की स्थिति का आकलन करने के लिए कहा था। जिसके बाद बेसिक शिक्षा विभाग ने क्लास 6 से 8 तक के स्कूलों को 15 फरवरी से खोलने का प्रस्ताव भेजा है, जबकि कक्षा 1 से 5 तक के स्कूलों को 1 मार्च से खोलने का प्रस्ताव दिया है। अगर सबकुछ ठीक रहा है तो बेसिक शिक्षा विभाग के इस प्रस्ताव को आज मंजूरी मिल सकती है।

आपको बता दें की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 का टेस्टिंग कार्य पूरी क्षमता से संचालित किया जाए। इसी के साथ ही कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस सिस्टम को सक्रिय रखा जाए। मुख्यमंत्री ने साल 2021-22 के केंद्रीय बजट के परिप्रेक्ष्य में संबंधित विभागों को अपने-अपने प्रस्ताव भारत सरकार को समय से प्रेषित करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने आगामी वित्तीय वर्ष के अपने बजट में जल जीवन मिशन के तहत नगरीय क्षेत्रों को शामिल करने का प्रस्ताव किया है।