चौकाघाट-लहरतारा फ्लाई ओवर पर नियमो की अनदेखी | चौकाघाट-लहार तातार फ्लाईओवर पर नियमों की अनदेखी की गई

चौकाघाट-लहरतारा फ्लाई ओवर रविवार ,16 फ़रवरी को मोदी जी के उद्घाटन के बाद आम जनता के लिए खोल दिया गया था पर फ्लाई ओवर का काम आधा अधूरा ही हुआ था |  उद्घाटन के दिन ही फ्लाईओवर पर कई वाहन आपस में टकराए थे। कई लोग  घायल भी हुवे थे कइयों को अस्पताल पहुंचना पड़ा था। रविवार दोपहर बाद से दोनों लेन पर वाहनों के आने-जाने के कारण छिटपुट दुर्घटनाएं हो रही थीं।

चौकाघाट-लहरतारा फ्लाई ओवर रविवार ,16 फ़रवरी को मोदी जी के उद्घाटन के बाद आम जनता के लिए खोल दिया गया था पर फ्लाई ओवर का काम आधा अधूरा ही हुआ था |  उद्घाटन के दिन ही फ्लाईओवर पर कई वाहन आपस में टकराए थे। कई लोग  घायल भी हुवे थे कइयों को अस्पताल पहुंचना पड़ा था। रविवार दोपहर बाद से दोनों लेन पर वाहनों के आने-जाने के कारण छिटपुट दुर्घटनाएं हो रही थीं। गलत लेन में जाने वालों पर नजर रखने के लिए यातायात पुलिसकर्मी भी तैनात किये गए लेकिन फिर भी पुल पर  बेतरतीब तरीके से वाहन आ व जा रहे थे। यह देख पुलिसकर्मी भी हैरान थे, लेकिन कुछ नहीं कर पा रहे थे। चौकाघाट से आने वाली गाड़ियों को रोकने पर उनका कहना था कि लेन पर आने व जाने वाले वाहनों को छूट है। आखिरकार पुलिसकर्मी भी नियमों को समझ नहीं पा रहे थे। लगभग दो किलोमीटर लंबे बहुप्रतीक्षित चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर की सौगात तो मिल गई लेकिन निर्माण व डिजाइन में सुरक्षा मानकों की अनदेखी किसी भी दिन फिर भारी पड़ सकती है। निर्माण के दौरान लापरवाही के चलते जहां 15 लोगों की जान चली गई थी, वहीं फ्लाईओवर की डिजाइन भी कुछ ऐसी है कि आए दिन हादसे हो रहे हैं।  स्थिति ये है कि दो किमी लंबे फ्लाईओवर के अगल -बगल जालियां नहीं लगाई गई हैं। जिससे हादसा होने पर वाहन सीधे नीचे गिरेंगे। सेतु निगम ने 171 करोड़ रुपये मूल्य की लागत से फ्लाईओवर का निर्माण कराया है। पीएम मोदी ने 16 फरवरी को उद्घाटन किया था। उद्घाटन के बाद से ही डिजाइन को लेकर सवाल उठ रहे। चौकाघाट की तरफ फ्लाईओवर के पास दिनभर जाम का झाम पब्लिक को ङोलना पड़ रहा है।किसी को समझ नहीं आ रहा था कि फ्लाईओवर पर क्या हो रहा है। यही नहीं लगातार हादसों के चलते अधिकारियों के फैसलों पर भी सवाल उठने लगे थे।
बढ़ती दुर्घटना को देखते हुए चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर पर  यातायात पुलिस तैनात कर दी गयी है| दोनों लेन को वनवे कर दिया गया।   वही नियम तोड़ने वालों का सख्ती से चालान किया जाएगा।