बिहार चुनाव में श्री राम ,सीता माता व हनुमान के साथ श्री कृष्ण और अर्जुन भी चुनाव मैदान में हैं

1990 से लेकर अब तक के सभी चुनाव में अयोध्या और श्री राम की चर्चा हो रही हैं। भाजपा और उनके विरोधी पार्टी भी श्री राम के नाम पर वोट बैंक भरने में कामयाब रही है । लालकृष्ण आडवाणी की रथ यात्रा को रोकने का प्रयास वाली बात भी 2020 के पहले के हर एक चुनाव में उठा । लेकिन अब चुनाव प्रचार में लालकृष्ण आडवाणी नहीं है और नाही रथ यात्रा रोकने वाले RJD के अध्यक्ष लालू प्रसाद भी नहीं है सो रथयात्रा की चर्चा नहीं हो रही है । अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का पूरा श्रेय भाजपा के नेता ले रहे हैं इस बहाने भगवान श्री राम की चर्चा खुब हो रही है ।

बिहार चुनाव में श्री राम ,सीता माता व हनुमान के साथ श्री कृष्ण और अर्जुन भी चुनाव मैदान में हैं

बिहार चुनाव में श्री राम ,सीता माता व हनुमान के साथ श्री कृष्ण और अर्जुन भी चुनाव मैदान में हैं

जानकारी के मुताबिक बिहार विधानसभा चुनाव में अयोध्या की चर्चा के साथ भगवान राम के नाम  पर चुनाव प्रचार हो रहे थे।लेकिन 2020 में थोड़ा कुछ अलग है इस बार भगवान राम ही नहीं सीता माता भी और हनुमान जी तो कुछ अधिक ही लोकप्रिय हैं। लेकिन खास बात  यह है कि भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन भी इस चुनाव में आ गए हैं । बाकी देवता तपस्या में लीन है हनुमान जी का रूप साक्षात है। पर ये श्रीराम के नहीं खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान बताते हैं। इनका नाम है चिराग पासवान लोजपा अध्यक्ष ।

श्री राम मंदिर पर सियासत
1990 से लेकर अब तक के सभी चुनाव में अयोध्या और श्री राम की चर्चा हो रही हैं। भाजपा और उनके विरोधी पार्टी भी श्री राम के नाम पर वोट बैंक भरने में कामयाब रही है । लालकृष्ण आडवाणी की रथ यात्रा  को रोकने का प्रयास वाली बात भी 2020 के पहले के हर एक चुनाव में उठा । लेकिन अब चुनाव प्रचार में लालकृष्ण आडवाणी नहीं है और नाही रथ यात्रा रोकने वाले RJD के अध्यक्ष लालू प्रसाद भी नहीं है सो रथयात्रा की चर्चा नहीं हो रही है ।
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का पूरा श्रेय भाजपा के नेता ले रहे हैं इस बहाने भगवान श्री राम की चर्चा खुब हो रही है ।
मुद्दा  बना सीता माता मंदिर
बिहार के इस चुनाव में सीता माता के नाम पर सियासत खूब जोर शोर से चल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दरभंगा में एक सभा को संबोधित करते समय बोले दरभंगा मिथिला की हृदयस्थली है मोदी ने रामायण सर्किट बनाने की योजना का जिक्र किया। लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान तो और आगे निकल गए बोले अयोध्या की तरह सीतामढ़ी में सीता मंदिर बनाने की घोषणा कर दिया। चिराग पहली बार लोजपा के चुनाव अभियान को संचालित कर रहे हैं। दरभंगा मधुबनी और सीतामढ़ी की सभाओं में सीता मंदिर निर्माण के नाम पर चिराग खूब तालियां बटोर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ भी अपने भाषण में अयोध्या के तरह सीतामढ़ी और जनकपुर की चर्चा कर रहे हैं थे।

श्री कृष्ण और अर्जुन
आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद के बेटे तेजप्रताप यादव भगवान श्री कृष्ण के बहुत बड़े भक्त अपने को बोलते हैं उन्हें जब भी मौका मिलता है मथुरा बिंद्रावन निकल लेते हैं। चुनावी सभाओं में खुद को श्री कृष्ण और छोटा भाई तेजस्वी को अर्जुन बताकर वोट मांगते हैं कहीं बांसुरी बजा कर भीड़ इकट्ठे करते हैं तो कहीं मोर पंख लगाकर किशन कन्हैया बन जाते हैं।  वही अर्जुन बने तेजस्वी विपक्षी पार्टी पर तीखे शब्द के वाण चला रहे हैं।  बिहार चुनाव में श्री राम ,सीता माता व हनुमान के साथ श्री कृष्ण और अर्जुन भी चुनाव मैदान में हैं।

जानकारी के मुताबिक बिहार विधानसभा चुनाव में अयोध्या की चर्चा के साथ भगवान राम के नाम  पर चुनाव प्रचार हो रहे थे।
लेकिन 2020 में थोड़ा कुछ अलग है इस बार भगवान राम ही नहीं सीता माता भी और हनुमान जी तो कुछ अधिक ही लोकप्रिय हैं। लेकिन खास बात  यह है कि भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन भी इस चुनाव में आ गए हैं । बाकी देवता तपस्या में लीन है हनुमान जी का रूप साक्षात है। पर ये श्रीराम के नहीं खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान बताते हैं। इनका नाम है चिराग पासवान लोजपा अध्यक्ष ।

श्री राम मंदिर पर सियासत
1990 से लेकर अब तक के सभी चुनाव में अयोध्या और श्री राम की चर्चा हो रही हैं। भाजपा और उनके विरोधी पार्टी भी श्री राम के नाम पर वोट बैंक भरने में कामयाब रही है । लालकृष्ण आडवाणी की रथ यात्रा  को रोकने का प्रयास वाली बात भी 2020 के पहले के हर एक चुनाव में उठा । लेकिन अब चुनाव प्रचार में लालकृष्ण आडवाणी नहीं है और नाही रथ यात्रा रोकने वाले RJD के अध्यक्ष लालू प्रसाद भी नहीं है सो रथयात्रा की चर्चा नहीं हो रही है ।
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का पूरा श्रेय भाजपा के नेता ले रहे हैं इस बहाने भगवान श्री राम की चर्चा खुब हो रही है ।
मुद्दा  बना सीता माता मंदिर
बिहार के इस चुनाव में सीता माता के नाम पर सियासत खूब जोर शोर से चल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दरभंगा में एक सभा को संबोधित करते समय बोले दरभंगा मिथिला की हृदयस्थली है मोदी ने रामायण सर्किट बनाने की योजना का जिक्र किया। लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान तो और आगे निकल गए बोले अयोध्या की तरह सीतामढ़ी में सीता मंदिर बनाने की घोषणा कर दिया। चिराग पहली बार लोजपा के चुनाव अभियान को संचालित कर रहे हैं। दरभंगा मधुबनी और सीतामढ़ी की सभाओं में सीता मंदिर निर्माण के नाम पर चिराग खूब तालियां बटोर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ भी अपने भाषण में अयोध्या के तरह सीतामढ़ी और जनकपुर की चर्चा कर रहे हैं थे।

श्री कृष्ण और अर्जुन
आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद के बेटे तेजप्रताप यादव भगवान श्री कृष्ण के बहुत बड़े भक्त अपने को बोलते हैं उन्हें जब भी मौका मिलता है मथुरा बिंद्रावन निकल लेते हैं। चुनावी सभाओं में खुद को श्री कृष्ण और छोटा भाई तेजस्वी को अर्जुन बताकर वोट मांगते हैं कहीं बांसुरी बजा कर भीड़ इकट्ठे करते हैं तो कहीं मोर पंख लगाकर किशन कन्हैया बन जाते हैं।  वही अर्जुन बने तेजस्वी विपक्षी पार्टी पर तीखे शब्द के वाण चला रहे हैं।