राजनीति बंद कर आपस में नहीं, एक जुट हो कर लड़ना होगा - अरविंद केजरीवाल | ARVIND KHEJRIWAL STATEMENT ON CORONA

खबर दिल्ली के सरकार के लिए काफी बड़ी  परेशानी का सबब है | आज इस दौरान केजरीवाल ने कहा दिल्ली कैबिनेट ने फैसला लिया था कि कोरोना संकट के दौरान दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज हो, लेकिन केंद्र सरकार ने उपराज्यपाल से पलटवा दिया है(पूरा पढ़ें)

राजनीति बंद कर आपस में नहीं, एक जुट हो कर लड़ना होगा - अरविंद केजरीवाल | ARVIND KHEJRIWAL STATEMENT ON CORONA
राजनीति बंद कर आपस में नहीं, एक जुट हो कर लड़ना होगा - अरविंद केजरीवाल | ARVIND KHEJRIWAL STATEMENT ON CORONA

राजनीति बंद कर आपस में नहीं एक जुट हो कर लड़ना होगा - अरविंद केजरीवाल | ARVIND KHEJRIWAL STATEMENT ON CORONA

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद आप कार्यकर्ताओ के साथ दिल्ली के लोगो ने अब राहत की सांस ली है | लेकिन दिल्ली पर कोरोना का संक्रमण लगातार जारी है और राजधानी में कोरोना वायरस अब विस्फोटक रूप लेता जा रहा है। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एक स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को 1,366 नए मामले सामने आए जिसके बाद यहां संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 31,309 हो गई है और 905 लोग इस बीमारी की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके है। 

आज  इसी क्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अंदेशा जताते हुए कहा की आने वाले समय में कोरोना का संक्रमण दिल्ली में बहुत तेजी से फैलने वाला है। दरअसल कल केजरीवाल ने राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएम) की बैठक थी। वहां जो आंकड़े पेश किए गए हैं उसके मुताबिक, दिल्ली में 15 जून तक 44 हजार केस हो जाएंगे, जो अभी 31 हजार हैं। 30 जून तक एक लाख, 15 जुलाई तक 2.25 लाख केस और 31 जुलाई तक 5.32 लाख कोरोना केस हो जाएंगे। 

ये खबर दिल्ली के सरकार के लिए काफी बड़ी  परेशानी का सबब है | आज इस दौरान केजरीवाल ने कहा दिल्ली कैबिनेट ने फैसला लिया था कि कोरोना संकट के दौरान दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज हो, लेकिन केंद्र सरकार ने उपराज्यपाल से पलटवा दिया है। अब LG और केंद्र के आदेश को लागू किया जाएगा। इस पर राजनीति बंद होनी चाहिए। केजरीवाल ने कहा की अब कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को जनआंदोलन बनाना होगा।  

सभी को मुख्य तीन बातों का ध्यान रखना है, पहला मास्क लगाकर घर से निकलना है, दूसरा बार-बार हाथ धोने हैं और तीसरा सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ध्यान रखना है। साथ ही कोशिश करना है की और लोगो को भी ये बाते समझा सके | इस वक्त कोरोना संकट को देखते हुए दिल्ली में 31 जुलाई तक करीब 80 हजार बेड की जरुरत पड़ सकती है जो की इस वक्त बहुत बड़ी चुनौती है | 

दिल्ली में बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए केजरीवाल ने पडोसी राज्यों हरियाणा और उत्तर प्रदेश से भी अपने निवासियों के लिए लिए बेड्स और इलाज के इंतजाम करने की सलाह दी है ताकि दिल्ली कम से कम लोग आए | केजरीवाल ने केंद्र की तरफ इशारा करते हुए कहा की यह समय राजनीति करने का नहीं है। यह समय मिलकर कोरोना से लड़ने का है। इस वक्त हमें एकजुट होकर एक देश बनना है। इस समय देश बहुत बड़े संकट में है इसलिए सभी राजनीतिक दलों, संस्थाओं को मिलकर लड़ना होगा क्योकि हम एकजुट होकर लड़े तो कोरोना हार जाएगा।और यदि  हम आपस में लड़ेंगे तो कोरोना जीत जाएगा।