सोनू सूद की राह पर चले अमिताभ बच्चन, मजदूरों के लिए शुरू की बस सेवा

बसों में सुरक्षा और सुविधा से जुड़ी तमाम बातों का ध्यान रखा गया है। इनमें मजदूरों के खाने-पीने की व्यवस्था कराई गई है। साथ सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान ...

सोनू सूद की राह पर चले अमिताभ बच्चन, मजदूरों के लिए शुरू की बस सेवा

बॉलीवुड एक्टर सोमू सूद इस लॉकडाउन के समय में फसे हुए लोगो और मजदूरों के लिए एक मसीहा बनाकर सामने आये है। वो लगातार मजदूरों को घर पहुंचना का काम कर रहे जिस से उनके हर तरफ चर्चा हो रही  और उनके इस काम की काफी सहराहना भी की जा रही है। अब बॉलीवुड के महानायक भी इस नेक काम आगे है। अमिताभ बच्चन ने उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए की बस सेवा शुरू की है। यह पहल उन्होंने महीम दरगाह ट्रस्ट और हाजी अली दरगाह ट्रस्ट के साथ मिलकर शुरू की है। इसके तहत शुक्रवार को 10 बसें हाजी अली दरगाह से रवाना हुईं। सभी बसों के आगे दोनों ट्रस्ट के नाम और अमिताभ की फोटो वाले बैनर लगाए गए। इन पर बिग बी का संदेश 'मेरी यही इच्छा सब अपने परिवार के पास पहुंचें' लिखा था।

बसों में सुरक्षा और सुविधा से जुड़ी तमाम बातों का ध्यान रखा गया है। इनमें मजदूरों के खाने-पीने की व्यवस्था कराई गई है। साथ सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए कैपिसिटी से आधे मजदूर ही बिठाए गए हैं। 52 सीट की बस में सिर्फ 25 मजदूर बैठे। सभी को हैंड सैनेटाइजर्स और मास्क दिए गए। जरूरत के लिए मेडिकल किट की सुविधा भी बस में मौजूद है। यात्रा करने वाले सभी मजदूर यूपी के लखनऊ, इलाहाबाद, गोरखपुर और भदोई जैसे जिलों से ताल्लुक रखते हैं। 

खबर के मुताबिक, अमिताभ बच्चन का ऑफिस पिछले दो महीने से लगातार राहत कार्य में जुटा है। उनकी कंपनी एबी कॉर्पोरेशन लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर राजेश यादव उनकी ओर से जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। यादव हाजी अली ट्रस्ट और पीर मखदूम साहब ट्रस्ट की सहायता से हर दिन 4500 से ज्यादा फूड पैकेट्स हाजी अली दरगाह, एंटॉप हिल, बाबुलनाथ मंदिर, महिम दरगाह, धारावी, सायन 90 फीट रोड, अरब गली, कोसला बंदर और वरली लोटस समेत मुंबई की अलग-अलग जगहों पर बंटवा रहे हैं। 

साथ ही अमिताभ बच्चन ने एक हजार परिवारों के लिए 1000 राशन पैकेट्स भी उपलब्ध कराए हैं, जो हर परिवार के लिए एक महीने तक पर्याप्त होगा। यह सेवा सिर्फ गरीब और जरूरतमंद परिवार के लिए है। इसके अलावा 9 मई से वे और उनकी टीम राशन के 2000 पैकेट्स, 2000 पानी की बोतलें और लगभग 1200 जोड़ी स्लीपर्स उन प्रवासी मजदूरों के लिए हर दिन उपलब्ध करा रहे हैं, जो मुंबई से अपने घर जा रहे हैं |