हरियाणा में आज से 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए विद्यालय खुले

कोविड -19 के चलते हुए lockdown से बंद पढ़े स्कूलों के दरवाजे अब खुलने की कगार पर है। एक बार फिर सोमवार से विद्यार्थियों के लिए हरयाणा के स्कूल कुछ शर्तो और सावधानियों के साथ खुलने जा रहे हैं। बता दें की अभिभावकों की सहमति पत्र और हेल्थ कार्ड दिखाने के बाद ही एंट्री दी जाएगी। छात्रों के लिए आधे घंटे पहले से स्कूलों में प्रवेश दिया जाएगा। इसके साथ ही सभी शिक्षकों की 100 प्रतिशत उपस्थिति में अनिवार्य की गई है। लेकिन बताते चले कि पहले चरण में स्कूल केवल दसवीं और बारहवीं कक्षा के लिए खोले जा रहे हैं, जिसके बाद 21 दिसंबर से 9वीं और 11वीं कक्षा के छात्रों को बुलाया जाएगा। वहीं पहली से आठवीं के छात्रों के लिए अभी स्कूल खोलने को लेकर कोई भी आदेश जारी नहीं किए गए हैं।

हरियाणा में आज से 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए विद्यालय खुले

कोविड -19 के चलते हुए lockdown से बंद पढ़े स्कूलों के दरवाजे अब खुलने की कगार पर है। एक बार फिर सोमवार से विद्यार्थियों के लिए हरयाणा के स्कूल कुछ शर्तो और सावधानियों के साथ खुलने जा रहे हैं। बता दें की अभिभावकों की सहमति पत्र और हेल्थ कार्ड दिखाने के बाद ही एंट्री दी जाएगी। छात्रों के लिए आधे घंटे पहले से स्कूलों में प्रवेश दिया जाएगा। इसके साथ ही सभी शिक्षकों की 100 प्रतिशत उपस्थिति में अनिवार्य की गई है। लेकिन बताते चले कि पहले चरण में स्कूल केवल दसवीं और बारहवीं कक्षा के लिए खोले जा रहे हैं, जिसके बाद 21 दिसंबर से 9वीं और 11वीं कक्षा के छात्रों को बुलाया जाएगा। वहीं पहली से आठवीं के छात्रों के लिए अभी स्कूल खोलने को लेकर कोई भी आदेश जारी नहीं किए गए हैं।

वहीं एहतियात के तौर पर सभी स्कूलों को सैनिटाइज करवा दिया गया है।और साथ ही जिला प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रधान दुष्यंत ठाकरान का कहना है कि पहली से आठवीं तक के छात्रों को ऑनलाइन ही पढ़ाया जा रहा है। लेकिन सोमवार से सभी शिक्षकों की उपस्थिति स्कूलों में दर्ज होगी।व्ही ऑनलाइन क्लास के बिच कई छात्र ऐसे भी सामने आये हैं जो कि अब ऑनलाइन कक्षाओं से भी नहीं जुड़ रहे। उन्हें होमवर्क दिया जाता है लेकिन वह उसका रिप्लाई तक नहीं करते हैं।

वहीं अभिभावकों का मानना है कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती तब तक ऑनलाइन कक्षाएं छात्रों के लिए बेहतर हैं। जिला शिक्षा अधिकारी इंदू बोकन ने बताया कि प्रोटोकॉल के तहत स्कूलों में कक्षाओं का संचालन किया जाएगा। इसी के चलते सभी सरकारी और निजी स्कूलों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं।