Varanasi Corona News : नहीं रहे ऑल इंडिया रोटी बैंक के संस्थापक किशोरी कांत तिवारी लाकडाउन में बने थे गरीबो के मसीहा

वाराणसी में कोविड की वजह से स्थति दिन प्रतिदिन भयानक होती जा रही है | हर रोज इस बिमारी से कई लोगो की मौत हो रही है |

Varanasi Corona News : नहीं रहे ऑल इंडिया रोटी बैंक के संस्थापक किशोरी कांत तिवारी लाकडाउन में बने थे गरीबो के मसीहा

वाराणसी में कोविड की वजह से स्थति दिन प्रतिदिन भयानक होती जा रही है | हर रोज इस बिमारी से कई लोगो की मौत हो रही है | आज की बात कर ली जाए तो आज जारि किए गए 11 बजे तक के मेडिकल बुलेटिन के अनुसार शहर बनारस में 1192 कोरोना पॉजिटिव मरीज आए है | वही इस भयानक संक्रमण की वजह से काशी ने अपना एक अनमोल लाला खो दिया हम बात कर रहे है रोटी वाले भैया के नाम से मशहूर किशोरी कांत तिवारी जी की |

बतादे पिछले दिनों तेज़ बुखार की शिकायत के बाद उन्हें वाराणसी के वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक शंकर तिवारी की पहल पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उन्होंने अंतिम सांस ली और किशोरी कांत तिवारी का कोरोना से निधन हो गया। किशोर मूल रूप से सासाराम, बिहार के रहने वाले थे और साल 2012 में  किशोर अपने पेट में प्रॉब्लम होने के बाद मां और पिता के साथ वाराणसी में बीएचयू में इलाज के लिए पहली बार बनारस आये थे। किशोर कांत के द्वारा ऑल इंडिया रोटी बैंक की  स्थापना के पीछे भी एक कहानी है |

दरसअल किशोर जी ने साल 2017 में अस्सी घाट के पास एक डोसा कार्नर के बगल में एक व्यक्ति के कूड़े में से डोसा निकालकर खाने को देखकर उन्होंने ऑल इंडिया रोटी बैंक की स्थापना की थी।  पिछले साल जब कोरोना ने देश में भयानक रूप लिया तो इस बैंक ने वाराणसी में  लाकडाउन के दौरान लाखों लोगों को दो वक़्त की रोटी मुहैया करवाई। किशोरी कान्त तिवारी की आंत में ट्यूमर का 2016 में ऑपरेशन हुआ था, जिसके बाद उन्हें सांस लेने में अक्सर दिक्कत होती थी ।