अजीत सिंह हत्याकांड। हत्यारों ने 25 गोलियों से छलनी किया शरीर । वारदात के 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सनसनीखेज अजीत सिंह हत्याकांड के 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं. अभी तक की जांच में पता चला है कि शूटर्स हत्याकांड को अंजाम देने के बाद लाल रंग की डस्टर कार से फ़रार हुए. वारदात की जगह और कमता बस अड्डे पर लाल डस्टर दिखाई दी है. पुलिस की थ्योरी के अनुसार हत्या करने के बाद शूटर्स बाइक पर सवार होकर कमता बस अड्डा पहुंचे. यहां उन्होंने बस अड्डे पर बाइक खड़ी की और लाल डस्टर में सवार हो गए.

अजीत सिंह हत्याकांड। हत्यारों  ने 25 गोलियों से छलनी किया शरीर । वारदात के 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सनसनीखेज अजीत सिंह हत्याकांड के 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं. अभी तक की जांच में पता चला है कि शूटर्स हत्याकांड को अंजाम देने के बाद लाल रंग की डस्टर कार से फ़रार हुए. वारदात की जगह और कमता बस अड्डे पर लाल डस्टर दिखाई दी है. पुलिस की थ्योरी के अनुसार हत्या करने के बाद शूटर्स बाइक पर सवार होकर कमता बस अड्डा पहुंचे. यहां उन्होंने बस अड्डे पर बाइक खड़ी की और लाल डस्टर में सवार हो गए.

डीजीपी एचसी अवस्थी ने हत्याकांड को लेकर सख्त निर्देश जारी किए हैं. सीओ स्तर के अधिकारियों को इसकी समीक्षा कर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. वहीं फ़रार आरोपियों की कुर्की के निर्देश दिए गए हैं. इसके अलावा गिरफ्तार आरोपियों पर रासुका और गैंगस्टर एक्‍ट लगाने के निर्देश भी दिए गए हैं. साथ ही गैंग मेंबर्स के शस्त्र लाइसेंसों को निरस्त कराने का कहा गया है. उनके खिलाफ विवाद, रंजिश को मोहल्ला विवाद रजिस्टर में दर्ज करने के निर्देश दिए गए है.

बता दें पुलिस हत्या को अंजाम देने वाले गिरधारी उर्फ डॉक्टर की तलाश में जुटी है. गिरधारी उर्फ डॉक्टर वाराणसी का एक लाख का इनामी बदमाश है.

इससे पहले घटना पर लखनऊ के पुलिस कमिश्नर ने कहा कि मामले के खुलासे के लिए 5 टीमें लगाई गई हैं. मऊ, आजमगढ़ और पूर्वांचल के जिलों में भेजी गई हैं. सर्विलांस पर भी काम किया जा रहा है. कुंटू सिंह, अखंड प्रताप सिंह और गिरधारी विश्वकर्मा और तीन अज्ञात पर एफआईआर दर्ज हुई है. एक हत्या के मामले में गवाही से रोकने के लिए अजीत की हत्या हुई है. शूटर्स जहां रुके थे, उसकी जानकारी पुलिस को मिल गई है. जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी. 2 साजिशकर्ता कुंटू सिंह और अखंड प्रताप सिंह फिलहाल जेल में ही बंद हैं. मामले में जिस पुलिसकर्मी की लापरवाही मिलेगी, उस पर भी कार्रवाई होगी. मृतक और आरोपी दोनों ही जरायम की दुनिया से संबंध रखते हैं.